गाना / Title: कभी शाख-ओ-सब्ज़ा-ओ-बर्ग पर - kabhii shaakh-o-sabzaa-o-barg par

चित्रपट / Film: non-Film

संगीतकार / Music Director: Taj Ahmed Khan

गीतकार / Lyricist: Jigar Moradabadi

गायक / Singer(s): तलत महमूद-(Talat Mahmood)आशा भोसले-(Asha)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



आं....
कभी शाख़-ओ-सब्ज़ा-ओ-बर्ग पर
कभी ग़ुंचा-ओ-gul-ओ- ख़ार पर
मैं चमन में चाहे जहाँ रहूँ
मेरा हक़ है फ़सल-ए-बहार पर

मैं चमन में चाहे जहाँ रहूँ

मुझे दे न ग़ैब में धमकियां
गिरें लाख बार ये बिजलियां
मेरी सर तनक यही आशियां
मेरी मिल्कियत यही प्यार पर

मेरी सर तनक येही आशियां

मेरी सिम्ट से उसे ऐ सबा
ये पयाम-ए-आख़िर-ए-ग़म सुना
अभी देखना हो तो देख जा
के ख़िज़ां है अपनी बहार पर

अभी देखना हो तो देख जा

ये फ़रेब-ए-जलवा-ए-सर बसर
मुझे डर है ये दिल-ए-बेख़बर
कहीं जम न जाये तेरी नज़र
इन्हीं चंद नक़्श-ओ-निगार पर

कभी शाख-ओ-सब्ज़ा-ओ-बर्ग पर




अजब इंक़लाब-ए-ज़माना है
मेरा मुक़्तसर सा फ़साना है
ये जो आज बार है दोश पर
यही सर था ज़ानो-ए-यार पर

कभी शाख-ओ-सब्ज़ा-ओ-बर्ग पर

मैं रहीन-ए-ददर् सही मगर
मुझे और क्या चाहिये `जिगर'
ग़म-ए-यार है मेरा शेफ़ता
मैं फ़रेफ़ता ग़म-ए-यार पर

कभी शाख-ओ-सब्ज़ा-ओ-बर्ग पर




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

aa.n....
kabhii shaaK-o-sabzaa-o-barg par
kabhii Gu.nchaa-o-gul-o- Kaar par
mai.n chaman me.n chaahe jahaa.N rahuu.N
meraa haq hai fasal-e-bahaar par

mai.n chaman me.n chaahe jahaa.N rahuu.N

mujhe de na Gaib me.n dhamakiyaa.n
gire.n laakh baar ye bijaliyaa.n
merii sar tanak yahii aashiyaa.n
merii milkiyat yahii pyaar par

merii sar tanak yehii aashiyaa.n

merii simT se use ai sabaa
ye payaam-e-aaKir-e-Gam sunaa
abhii dekhanaa ho to dekh jaa
ke Kizaa.n hai apanii bahaar par

abhii dekhanaa ho to dekh jaa

ye fareb-e-jalavaa-e-sar basar
mujhe Dar hai ye dil-e-beKabar
kahii.n jam na jaaye terii nazar
inhii.n cha.nd naqsh-o-nigaar par

kabhii shaakh-o-sabzaa-o-barg par




ajab i.nqalaab-e-zamaanaa hai
meraa muqtasar saa fasaanaa hai
ye jo aaj baar hai dosh par
yahii sar thaa zaano-e-yaar par

kabhii shaakh-o-sabzaa-o-barg par

mai.n rahiin-e-dad.r sahii magar
mujhe aur kyaa chaahiye `jigar'
Gam-e-yaar hai meraa shefataa
mai.n farefataa Gam-e-yaar par

kabhii shaakh-o-sabzaa-o-barg par