गाना / Title: कैसे रहूँ चुप के - Kaise Rahoon Chup Ke Maine

चित्रपट / Film: इंतकाम-(Intaqam)

संगीतकार / Music Director: लक्ष्मीकांत - प्यारेलाल-(Laxmikant-Pyarelal)

गीतकार / Lyricist: Rajendra Krishan

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
कैसे रहूँ चुप के मैंने पी ही क्या है, होश अभी तक है बाकी 
और जरा सी दे दे साकी, और जरा सी और 

मुद्द्तों की प्यास आज एक जाम बन गई
ये ख़ुशी की शाम, शाम-ए-इन्तक़ाम बन गई 
जो बात हम तुम में थी वो बात आम बन गयी 
और जरा सी दे दे साकी

पता है तुमको राज़ क्या है मेरे इस सुरूर का 
के इस सुरूर में जरा सा रंग है गुरूर का 
जो मैंने पी तो क्यों नशा उतर गया हुज़ूर का 
और जरा सी दे दे साकी

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
Kaise rahun chup ke mainne pi hi kya hai, hosh abhi tak hai baaki 
Aur jara si de de saaki, aur jara si aur 

Muddton ki pyaas aj ek jaam ban gi
Ye khushi ki shaam, shaam-e-intaqaam ban gi 
Jo baat ham tum men thi wo baat am ban gayi 
Aur jara si de de saaki

Pata hai tumako raaz kya hai mere is surur ka 
Ke is surur men jara sa rng hai gurur ka 
Jo mainne pi to kyon nasha utar gaya huzur ka 
Aur jara si de de saaki

Related content: