गाना / Title: इन्सान बनो - Insaan Bano (Baiju Bawra)

चित्रपट / Film: बैजू बावरा-(Baiju Bawra)

संगीतकार / Music Director: नौशाद अली-(Naushad)

गीतकार / Lyricist: शकील बदायुनी-(Shakeel Badayuni)

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
निर्धन का घर लूटनेवालों, लूट लो दिल का प्यार
प्यार वो धन है जिसके आगे सब धन है बेकार

इन्सान बनो, इन्सान बनो, कर लो भलाई का कोई काम
दुनिया से चले जाओगे, रह जाएगा बस नाम

जिस बाग में सूरज भी निकलता है लिए ग़म
फूलों की हँसी देख के रो देती है शबनम
कुछ देर की खुशियाँ हैं, तो कुछ देर का मातम
किस नींद में हो जागो, ज़रा सोच लो अंजाम

लाखों यहाँ शान अपनी दिखाते हुए आए
दम भर के लिए नाच गए धूप में साये 
वो भूल गए थे के ये दुनिया है सराए
आता है कोई सुबह, तो जाता है कोई शाम

क्यो तुमने लगाए हैं यहाँ ज़ुल्म के ढेरे
धन साथ ना जायेगा, बने क्यो हो लुटेरे
पीते हो ग़रीबों का लहू शाम सवेरे
खुद पाप करो, नाम हो शैतान का बदनाम

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
Nirdhan ka ghar lutanewaalon, lut lo dil ka pyaar
Pyaar wo dhan hai jisake age sab dhan hai bekaar

Insaan bano, insaan bano, kar lo bhalaai ka koi kaam
Duniya se chale jaaoge, rah jaaega bas naam

Jis baag men suraj bhi nikalata hai lie gam
Fulon ki hnsi dekh ke ro deti hai shabanam
Kuchh der ki khushiyaan hain, to kuchh der ka maatam
Kis nind men ho jaago, jra soch lo anjaam

Laakhon yahaan shaan apani dikhaate hue ae
Dam bhar ke lie naach ge dhup men saaye 
Wo bhul ge the ke ye duniya hai saraae
Ata hai koi subah, to jaata hai koi shaam

Kyo tumane lagaae hain yahaan julm ke dhere
Dhan saath na jaayega, bane kyo ho lutere
Pite ho gribon ka lahu shaam sawere
Khud paap karo, naam ho shaitaan ka badanaam

Related content: