गाना / Title: सिमटी हुई ये घड़ियाँ - Simti Hui Yeh Ghadiyan

चित्रपट / Film: चंबल की कसम-(Chambal Ki Kasam)

संगीतकार / Music Director: खय्याम-(Khaiyyam)

गीतकार / Lyricist: साहिर लुधियानवी-(Sahir Ludhianvi)

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
सिमटी हुई ये घड़ियाँ, फिर से ना बिखर जाएँ 
इस रात में जी लें हम, इस रात में मर जाएँ

अब सुबह ना आ पाए, आओ ये दुआ माँगे
इस रात के हर पल से रातें ही उभर जाएँ

दुनिया की निगाहें अब हम तक ना पहुँच पाएँ
तारों में बसे चलकर धरती में उतर जाएँ

हालात के तीरों से छलनी हैं बदन अपने
पास आओ के सीनों के कुछ ज़ख्म तो भर जाएँ

आगे भी अंधेरा है, पीछे भी अंधेरा है
अपनी हैं वही साँसे, जो साथ गुजर जाएँ

बिछड़ी हुई रूहों का ये मेल सुहाना है 
इस मेल का कुछ एहसां जिस्मों पे भी कर जायें 

तरसे हुये जज़बों को अब और ना तरसाओ 
तुम शाने पे सर रख दो, हम बाँहों में भर जायें

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
Simati hui ye ghadiyaan, fir se na bikhar jaaen 
Is raat men ji len ham, is raat men mar jaaen

Ab subah na a paae, ao ye dua maange
Is raat ke har pal se raaten hi ubhar jaaen

Duniya ki nigaahen ab ham tak na pahunch paaen
Taaron men base chalakar dharati men utar jaaen

Haalaat ke tiron se chhalani hain badan apane
Paas ao ke sinon ke kuchh jkhm to bhar jaaen

Age bhi andhera hai, pichhe bhi andhera hai
Apani hain wahi saanse, jo saath gujar jaaen

Bichhadi hui ruhon ka ye mel suhaana hai 
Is mel ka kuchh ehasaan jismon pe bhi kar jaayen 

Tarase huye jajbon ko ab aur na tarasaao 
Tum shaane pe sar rakh do, ham baanhon men bhar jaayen

Related content: