गाना / Title: लगी आज सावन की फिर वो झडी है - Lagi Aaj Sawan Ki Phir wo jhadi hai

चित्रपट / Film: चांदनी-(Chandni)

संगीतकार / Music Director: शिव हरी-(Shiv Hari)

गीतकार / Lyricist: आनंद बक्षी-(Anand Bakshi)

गायक / Singer(s): सुरेश वाडकर-(Suresh Wadkar)Anupama Deshpande

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
लगी आज सावन की फिर वो झड़ी है
वही आग सीने में फिर जल पड़ी है

कुछ ऐसे ही दिन थे वो जब हम मिले थे
चमन में नहीं फूल दिल में खिले थे
वही तो है मौसम मगर रुत नहीं वो
मेरे साथ बरसात भी रो पड़ी है

कोई काश दिल पे ज़रा हाथ रख दे
मेरे दिल के टुकड़ों को एक साथ रख दे
मगर ये है ख़्वाबों खयालों की बातें 
कभी टूट कर चीज़ कोई जुडी है

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
Lagi aj saawan ki fir wo jhadi hai
Wahi ag sine men fir jal padi hai

Kuchh aise hi din the wo jab ham mile the
Chaman men nahin ful dil men khile the
Wahi to hai mausam magar rut nahin wo
Mere saath barasaat bhi ro padi hai

Koi kaash dil pe zara haath rakh de
Mere dil ke tukadon ko ek saath rakh de
Magar ye hai khwaabon khayaalon ki baaten 
Kabhi tut kar chiz koi judi hai

Related content: