गाना / Title: हिमाला की बुलन्दी से - Himala Ki Bulandi Se

चित्रपट / Film: फूल बने अंगारे-(Phool Bane Angare)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: आनंद बक्षी-(Anand Bakshi)

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
हिमाला की बुलन्दी से, सुनो आवाज़ है आयी
कहो माँओं से दें बेटे, कहो बहनों से दें भाई

वतन पे जो फ़िदा होगा, अमर वो नौजवाँ होगा
रहेगी जब तलक दुनिया, यह अफ़साना बयाँ होगा
वतन पे जो फ़िदा होगा, अमर वो नौजवाँ होगा

हिमाला कह रहा है इस वतन के नौजवानों से
खड़ा हूँ संतरी बनके मैं सरहद पे ज़मानों से
भला इस वक़्त देखूँ कौन मेरा पासबाँ होगा
वतन पे जो फ़िदा होगा, अमर वो नौजवाँ होगा

चमन वालों की ग़ैरत को है सैय्यादों ने ललकारा
उठो हर फूल से कह दो कि बन जाये वो अंगारा
नहीं तो दोस्तों रुसवा, हमारा गुलसिताँ होगा
वतन पे जो फ़िदा होगा, अमर वो नौजवाँ होगा
वतन पे जो फ़िदा होगा, अमर वो नौजवाँ होगा
रहेगी जब तलक दुनिया, यह अफ़साना बयाँ होगा
वतन पे जो फ़िदा होगा अमर वो नौजवाँ होगा

हमारे एक पड़ोसी ने, हमारे घर को लूटा है
हमारे एक पड़ोसी ने, हमारे घर को लूटा है
भरम इक दोस्त की बस दोस्ती का ऐसे टूटा है
कि अब हर दोस्त पे दुनिया को दुश्मन का गुमाँ होगा
वतन पे जो फ़िदा होगा, अमर वो नौजवाँ होगा

सिपाही देते हैं आवाज़, माताओं को, बहनों को
हमें हथियार ले दो, बेच डालो अपने गहनों को
कि इस क़ुर्बानी पे क़ुर्बां वतन का हर जवाँ होगा 
वतन पे जो फ़िदा होगा, अमर वो नौजवाँ होगा
रहेगी जब तलक दुनिया, यह अफ़साना बयाँ होगा
वतन पे जो फ़िदा होगा, अमर वो नौजवाँ होगा

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
himalya ki bulandi se suno aawaj hai aayi
kaha maao se de bete kaho behno se de bhai
vatan pe jo fida hoga amar vo naujawan hoga
vatan pe jo fida hoga amar vo naujawan hoga
rahegi jab talak ye duniya ye asfana bayaa hoga 
vatan pe jo fida hoga amar vo naujawan hoga

himalya kah raha hai is vatan ke naujawano se
khada hu santh veer ban ke mai sarhad pe jamano se
bhala is vaqt dekhu kon mera pasbaan hoga
vatan pe jo fida hoga amar vo naujawan hoga
chaman walo ki gairat ko hai saiyado ne lalkara
utho har phul se kah do ke ban jaye vo angara
nahi to dosto rusva humara gulistan hoga
vatan pe jo fida hoga amar vo naujawan hoga

humare ek padosi ne humare ghar ko luta hai
humare ek padosi ne humare ghar ko luta hai
bharam ek dost ki dosti ka aise tuta hai
ki ab har dost pe duniya ko dusman ka guman hoga
vatan pe jo fida hoga amar vo naujawan hoga
sipahi dete hai aawaj matao ko behano ko
hame hathiyar la do bech do apne gehno ko
ki is kurabn bekuraban vatan ka har naujawan hoga
vatan pe jo fida hoga amar vo naujawan hoga
rahegi jab talak ye duniya ye asfana bayaa hoga 
vatan pe jo fida hoga amar vo naujawan hoga

Related content: