गाना / Title: मुहब्बत है क्या चीज़, हम को बताओ - muhabbat hai kyaa chiiz, ham ko bataao

चित्रपट / Film: Prem Rog

संगीतकार / Music Director: लक्ष्मीकांत - प्यारेलाल-(Laxmikant-Pyarelal)

गीतकार / Lyricist: Santosh Anand

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)सुरेश वाडकर-(Suresh Wadkar)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



ये दिन क्यों निकलता है, ये रात क्यों होती हैं 
ये पीड़ कहाँ से उठती है, ये आँख क्यों रोती है

(मुहब्बत है क्या चीज़ - २, हम को बताओ 
ये किसने शुरू की, किसने शुरू की, हमें भी सुनाओ ) - २
मुहब्बत है क्या चीज़ - २

(बहकता है बदन कैसे, सुलगती हैं ये साँसें क्यों 
ये कैसे आग होती है, पिघलती है ये शमा क्यों ) - २

जल उठी शमा तो मचल कर, पर्वाना आ गया 
आग के दामन में, अपने आप को लिपटा दिया 
हमने पूछा दूसरे की, आग में रुका है क्या  - २
कुछ ना बोला, कुछ ना बोला, कुछ ना बोला अपनी धुन में 
बस यही गाता रहा 
मुहब्बत है क्या चीज़ ...

एक दिन गुज़रे जो हम, मकदे के मोड़ से 
एक मकश ज़रा त, मय से रिश्ता जोड़ के (?)
हमने पूछा किसी लिया तू, उमर भर बीता रहा - २
कुछ ना बोला, कुछ ना बोला, कुछ ना बोला अपनी धुन में 
बस यही गाता रहा 
मुहब्बत है क्या चीज़ ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

ye din kyo.n nikalatA hai, ye raat kyo.n hotI hai.n 
ye pii.D kahaa.N se uThatii hai, ye A.Nkh kyo.n rotI hai

(muhabbat hai kyA chIz - 2, ham ko batAo 
ye kisane shurU kI, kisane shurU kI, hame.n bhI sunAo ) - 2
muhabbat hai kyA chIz - 2

(bahakatA hai badan kaise, sulagatI hai.n ye saa.Nse.n kyo.n 
ye kaise aag hotI hai, pighalatI hai ye shamA kyo.n ) - 2

jal uThI shamA to machal kar, parvAnA aa gayA 
aag ke dAman me.n, apane Ap ko lipaTA diyA 
hamane pUchhA dUsare kI, aag me.n rukA hai kyA  - 2
kuchh nA bolA, kuchh nA bolA, kuchh nA bolA apanI dhun me.n 
bas yahI gAtA rahA 
muhabbat hai kyA chIz ...

ek din guzare jo ham, makade ke mo.D se 
ek makash zarA ta, may se rishtA jo.D ke (?)
hamane pUchhA kisI liyA tU, umar bhar bItA rahA - 2
kuchh nA bolA, kuchh nA bolA, kuchh nA bolA apanI dhun me.n 
bas yahI gaatA rahA 
muhabbat hai kyA chIz ...