गाना / Title: है दुआ याद मगर हर्फ़-ए-दुआ याद नहीं - hai du_aa yaad magar harf-e-du_aa yaad nahii.n

चित्रपट / Film: गैर फ़िल्म-(Non-Film)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: Sagar Siddiqi

गायक / Singer(s): Ghulam Ali

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          




दिल की चोटों ने कभी चैन से रहने न दिया
जब चली सर्द हवा मैंने तुझे याद किया
पूछने आते हो हर रोज़ असीरों के मिज़ाज
क्यूँ नहीं कहते हो जाओ तुम्हें आज़ाद किया

है दुआ याद मगर हर्फ़-ए-दुआ याद नहीं
मेरे नग्मात को अंदाज़-ए-नवा याद नहीं

ज़िंदगी ज़ब्र-ए-मुसलसल की तरह काटी है
जाने किस जुर्म की काटी है सज़ा याद नहीं

सिर्फ़ धुँधलाये सितारों की चमक देखी है
कब हुआ कौन हुआ मुझसे ख़फ़ा याद नहीं

आओ एक सजदा करें आलम-ए-मदहोशी में
लोग कहते हैं 'सागर' को ख़ुदा याद नहीं



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      


dil kii choTo.n ne kabhii chain se rahane na diyaa
jab chalii sard hawaa mai.nne tujhe yaad kiyaa
puuchhane aate ho har roz asiiro.n ke mizaaj
kyuu.N nahii.n kahate ho jaa_o tumhe.n aazaad kiyaa

hai du_aa yaad magar harf-e-du_aa yaad nahii.n
mere nagmaat ko a.ndaaz-e-navaa yaad nahii.n

zi.ndagii zabr-e-musalasal kii tarah kaaTii hai
jaane kis jurm kii kaaTii hai sazaa yaad nahii.n

sirf dhu.Ndhalaaye sitaaro.n kii chamak dekhii hai
kab hu_aa kaun hu_aa mujhase Kafaa yaad nahii.n

aa_o ek sajadaa kare.n aalam-e-madahoshii me.n
log kahate hai.n 'saagar' ko Kudaa yaad nahii.n