गाना / Title: आज शीशे में ... दिल में एक जान-ए-तमन्ना - aaj shiishe me.n ... dil me.n ek jaan-e-tamannaa

चित्रपट / Film: Benazir

संगीतकार / Music Director: सचिन देव बर्मन-(S D Burman)

गीतकार / Lyricist: Shakeel

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



आज शीशे में बार-बार उन्हें दिल की सूरत दिखाई देती है
अपनी सूरत नज़र नहीं आती मेरी सूरत दिखाई देती है

दिल में एक जान-ए-तमन्ना ने जगह पाई है
आज गुलशन में नहीं घर में बहार आई है

आ गया आ गया मेरे तसव्वुर में कोई परदानशीन -२
आज हर चीज़ नज़र आती है मुझको हसीं
क्या करूँ मैं बड़ी दिलकश मेरी तन्हाई है
आज गुलशन में नहीं ...

बहकी-बहकी नशा-ए-हुस्न में खोई-खोई
जैसे ख़्यालों की रंगीन रुबाई कोई
दिल के शीशे में परी बन के उतर आई है
आज गुलशन में नहीं ...

हुस्न के सामने इज़हार-ए-वफ़ा है मुश्किल -२
काश छुप कर ही वो सुन ले मेरा नाला-ए-दिल
जिसने प्यार की मंज़िल मुझे दिखलाई है
आज गुलशन में नहीं ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

aaj shiishe me.n baar-baar unhe.n dil kii suurat dikhaa_ii detii hai
apanii suurat nazar nahii.n aatii merii suurat dikhaa_ii detii hai

dil me.n ek jaan-e-tamannaa ne jagah paa_ii hai
aaj gulashan me.n nahii.n ghar me.n bahaar aa_ii hai

aa gayaa aa gayaa mere tasavvur me.n ko_ii paradaanashiin -2
aaj har chiiz nazar aatii hai mujhako hasii.n
kyaa karuu.N mai.n ba.Dii dilakash merii tanhaa_ii hai
aaj gulashan me.n nahii.n ...

bahakii-bahakii nashaa-e-husn me.n kho_ii-kho_ii
jaise Kyaalo.n kii ra.ngiin rubaa_ii ko_ii
dil ke shiishe me.n parii ban ke utar aa_ii hai
aaj gulashan me.n nahii.n ...

husn ke saamane izahaar-e-vafaa hai mushkil -2
kaash chhup kar hii vo sun le meraa naalaa-e-dil
jisane pyaar kii ma.nzil mujhe dikhalaa_ii hai
aaj gulashan me.n nahii.n ...