गाना / Title: तुम इश्क़ की महफ़िल हो ... इक बार फिर कहो ज़रा - tum ishq kii mahafil ho ... ik baar phir kaho zaraa

चित्रपट / Film: Saaz Aur Awaz

संगीतकार / Music Director: नौशाद अली-(Naushad)

गीतकार / Lyricist: Khumar Barabankwi

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)आशा भोसले-(Asha)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



र :	तुम इश्क़ की महफ़िल हो तुम हुस्न का जलवा हो
	या साज-ए-मोहब्बत पर छेड़ा हुआ नग़मा हो
आ :	इक बार फिर कहो ज़रा
को :	इक बार फिर कहो ज़रा

आ :	शाईर हो मुसव्विर हो मालूम नहीं क्या हो
	लगता है मुझे ऐसा तुम मेरी तमन्ना हो
र :	इक बार फिर कहो ज़रा
को :	इक बार फिर कहो ज़रा

र :	ज़ुल्फ़ें हैं घटा जैसी चेहरा है कमल जैसा
	( मरमर का बदन प्यारा ) -२ है ताजमहल जैसा
	जैसे तुम्हें क़ुदरत ने हाथों से बनाया हो -२
	तुम इश्क़ की महफ़िल ...
आ :	इक बार फिर कहो ज़रा
को :	इक बार फिर कहो ज़रा

आ :	तुम क्या मिले उल्फ़त की तस्वीर नज़र आई
	मुझको मेरे ख़्वाबों की ताबीर नज़र आई
	भरता नहीं दिल जिससे तुम ऐसा नज़ारा हो -२
	शाईर हो मुसव्विर हो ...
र :	इक बार फिर कहो ज़रा
को :	इक बार फिर कहो ज़रा



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

ra :	tum ishq kii mahafil ho tum husn kaa jalavaa ho
	yaa saaj-e-mohabbat par chhe.Daa hu_aa naGamaa ho
aa :	ik baar phir kaho zaraa
ko :	ik baar phir kaho zaraa

aa :	shaa_iir ho musavvir ho maaluum nahii.n kyaa ho
	lagataa hai mujhe aisaa tum merii tamannaa ho
ra :	ik baar phir kaho zaraa
ko :	ik baar phir kaho zaraa

ra :	zulfe.n hai.n ghaTaa jaisii cheharaa hai kamal jaisaa
	( maramar kaa badan pyaaraa ) -2 hai taajamahal jaisaa
	jaise tumhe.n qudarat ne haatho.n se banaayaa ho -2
	tum ishq kii mahafil ...
aa :	ik baar phir kaho zaraa
ko :	ik baar phir kaho zaraa

aa :	tum kyaa mile ulfat kii tasviir nazar aa_ii
	mujhako mere Kvaabo.n kii taabiir nazar aa_ii
	bharataa nahii.n dil jisase tum aisaa nazaaraa ho -2
	shaa_iir ho musavvir ho ...
ra :	ik baar phir kaho zaraa
ko :	ik baar phir kaho zaraa