गाना / Title: दाइम पड़ा हुआ तेरे दर पर नहीं हूँ मैं - daa_im pa.Daa huaa tere dar par nahii.n huu.N mai.n

चित्रपट / Film: गैर फ़िल्म-(Non-Film)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: Mirza Ghalib

गायक / Singer(s): Ghulam Ali

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



दाइम पड़ा हुआ तेरे दर पर नहीं हूँ मैं
ख़ाक़ ऐसी ज़िंदगी पे, कि पत्थर नहीं हूँ मैं



क्यों गदर्इश-ए-मुदाम से घबरा न जाये दिल
इन्सान हूँ, प्याला-ओ-साग़र नहीं हूँ मैं




या रब ज़माना मुझको मिटाता है किस लिये
लौह-ए-जहाँ पे हर्फ़-ए-मुक़र्रर नहीं हूँ मैं




किस वास्ते अज़ीज़ नहीं जानते मुझे
लाल-ओ-ज़मुर्द-ओ-ज़र-ओ-गौहर नहीं हूँ मैं



करते हो मुझको मन-ओ-क़दम-बोस किस लिये
क्या आसमान के भी बराबर नहीं हूँ मैं

'ग़ालिब' वज़ीफ़ाख़्वार हो, दो शाह को दुआ
वो दिन गये कि कहते थे, नौकर नहीं हूँ मैं



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

daa_im pa.Daa huaa tere dar par nahii.n huu.N mai.n
Kaaq aisii zi.ndagii pe, ki patthar nahii.n huu.N mai.n



kyo.n gad.rish-e-mudaam se ghabaraa na jaaye dil
insaan huu.N, pyaalaa-o-saaGar nahii.n huu.N mai.n




yaa rab zamaanaa mujhako miTaataa hai kis liye
lauh-e-jahaa.N pe harf-e-muqarrar nahii.n huu.N mai.n




kis vaaste aziiz nahii.n jaanate mujhe
laal-o-zamurd-o-zar-o-gauhar nahii.n huu.N mai.n



karate ho mujhako man-o-qadam-bos kis liye
kyaa aasamaan ke bhii baraabar nahii.n huu.N mai.n

'Gaalib' vaziifaaKvaar ho, do shaah ko duaa
vo din gaye ki kahate the, naukar nahii.n huu.N mai.n