गाना / Title: खाई थी क़सम इक रात सनम - khaa_ii thii qasam ik raat sanam

चित्रपट / Film: Dil Ne Pukara

संगीतकार / Music Director: कल्याणजी - आनंदजी-(Kalyanji-Anandji)

गीतकार / Lyricist: इन्दीवर-(Indeevar)

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          




खाई थी क़सम इक रात सनम 
तूने भी किसी के होने की, होने की
अब रोज़ वहीं से आती है
आवाज़ किसी के रोने की, रोने की
खाई थी क़सम

(आती है तेरी जब याद मुझे
बेचैन बहारें होती हैं) - २
मेरी ही तरह इस मौसम में 
घनघोर घटाएँ रोती हैं
कहती है फ़िज़ा रो मिल के ज़रा
ये रात है मिल के रोने की, रोने की
खाई थी क़सम

(माँगी थी दुआ कुछ मिलने की मगर
कुछ दर्द मिला कुछ तन्हाई) - २
तू पास ही रह कर पास नहीं
रोती है मिलन की शहनाई
हसरत ही रही इस दिल के हसीं
अरमानों के पूरे होने की, होने की
खाई थी क़सम
खाई थी क़सम




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      


khaa_ii thii qasam ik raat sanam 
tuune bhii kisii ke hone kii, hone kii
ab roz vahii.n se aatii hai
aavaaz kisii ke rone kii, rone kii
khaa_ii thii qasam

(aatii hai terii jab yaad mujhe
bechain bahaare.n hotii hai.n) - 2
merii hii tarah is mausam me.n 
ghanaghor ghaTaa_e.N rotii hai.n
kahatii hai fizaa ro mil ke zaraa
ye raat hai mil ke rone kii, rone kii
khaa_ii thii qasam

(maa.Ngii thii duaa kuchh milane kii magar
kuchh dard milaa kuchh tanhaa_ii) - 2
tuu paas hii rah kar paas nahii.n
rotii hai milan kii shahanaa_ii
hasarat hii rahii is dil ke hasii.n
aramaano.n ke puure hone kii, hone kii
khaa_ii thii qasam
khaa_ii thii qasam