गाना / Title: कभी पहले देखा नहीं ... यहाँ मैं अजनबी हूँ - kabhii pahale dekhaa nahii.n ... yahaa.N mai.n ajanabii huu.N

चित्रपट / Film: Jab Jab Phool Khile

संगीतकार / Music Director: कल्याणजी - आनंदजी-(Kalyanji-Anandji)

गीतकार / Lyricist: आनंद बक्षी-(Anand Bakshi)

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



कभी पहले देखा नहीं ये समाँ
ये मैं भूले से आ गया हूँ कहाँ

यहाँ मैं अजनबी हूँ -२
मैं जो हूँ बस वही हूँ -२
यहाँ मैं अजनबी हूँ -२

कहाँ शाम-ओ-सहर थे कहाँ दिन-रात मेरे
बहुत रुसवा हुए हैं यहाँ जज़्बात मेरे
नई तहज़ीब है ये नया है ये ज़माना
मगर मैं आदमी हूँ वही सदियों पुराना
मैं क्या जानूँ ये बातें ज़रा इन्साफ़ करना
मेरी ग़ुस्ताख़ियों को ख़ुदारा माफ़ करना
यहाँ मैं अजनबी ...

तेरी बाँहों में देखूँ सनम ग़ैरों की बाँहें
मैं लाऊँगा कहाँ से भला ऐसी निगाहें
ये कोई रक़्स होगा कोई दस्तूर होगा
मुझे दस्तूर ऐसा कहाँ मंज़ूर होगा
भला कैसे ये मेरा लहू हो जाए पानी
मैं कैसे भूल जाऊँ मैं हूँ हिन्दोस्तानी
यहाँ मैं अजनबी ...

मुझे भी है शिकायत तुझे भी तो गिला है
यही शिक़वे हमारी मोहब्बत का सिला हैं
कभी मग़रिब से मशरिक़ मिला है जो मिलेगा
जहाँ का फूल है जो वहीं पे वो खिलेगा
तेरे ऊँचे महल में नहीं मेरा गुज़ारा
मुझे याद आ रहा है वो छोटा सा शिकारा
यहाँ मैं अजनबी ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

kabhii pahale dekhaa nahii.n ye samaa.N
ye mai.n bhuule se aa gayaa huu.N kahaa.N

yahaa.N mai.n ajanabii huu.N -2
mai.n jo huu.N bas vahii huu.N -2
yahaa.N mai.n ajanabii huu.N -2

kahaa.N shaam-o-sahar the kahaa.N din-raat mere
bahut rusavaa hu_e hai.n yahaa.N jazbaat mere
na_ii tahaziib hai ye nayaa hai ye zamaanaa
magar mai.n aadamii huu.N vahii sadiyo.n puraanaa
mai.n kyaa jaanuu.N ye baate.n zaraa insaaf karanaa
merii GustaaKiyo.n ko Kudaaraa maaf karanaa
yahaa.N mai.n ajanabii ...

terii baa.Nho.n me.n dekhuu.N sanam Gairo.n kii baa.Nhe.n
mai.n laa_uu.Ngaa kahaa.N se bhalaa aisii nigaahe.n
ye ko_ii raqs hogaa ko_ii dastuur hogaa
mujhe dastuur aisaa kahaa.N ma.nzuur hogaa
bhalaa kaise ye meraa lahuu ho jaa_e paanii
mai.n kaise bhuul jaa_uu.N mai.n huu.N hindostaanii
yahaa.N mai.n ajanabii ...

mujhe bhii hai shikaayat tujhe bhii to gilaa hai
yahii shiqave hamaarii mohabbat kaa silaa hai.n
kabhii maGarib se mashariq milaa hai jo milegaa
jahaa.N kaa phuul hai jo vahii.n pe vo khilegaa
tere uu.Nche mahal me.n nahii.n meraa guzaaraa
mujhe yaad aa rahaa hai vo chhoTaa saa shikaaraa
yahaa.N mai.n ajanabii ...