गाना / Title: गुलशन गुलशन शोला-ए-गुल की ज़ुल्फ़-ए-सबा की बात चली - gulashan gulashan sholaa-e-gul kii zulf-e-sabaa kii baat chalii

चित्रपट / Film: The Finest Ghazals of Mehdi Hassan (Non-Film)

संगीतकार / Music Director: Mehdi Hasan

गीतकार / Lyricist: Asghar Saleem

गायक / Singer(s): Mehdi Hasan

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



गुलशन गुलशन शोला-ए-गुल की ज़ुल्फ़-ए-सबा की बात चली
हर्फ़-ए-जुनूँ की बन्द-ए-गिराँ की जुर्म-ओ-सज़ा की बात चली

ज़िंदाँ ज़िंदाँ शोर-ए-जुनूँ है मौसम-ए-गुल के आने से
महफ़िल महफ़िल अब के बरस हर बाग़-ए-वफ़ा की बात चली

अहद-ए-सितम है देखें हम आशुफ़्ता-सरों पर क्या गुज़रे
शहर में उसके बन्द-ए-कबा की रंग-ए-हिना की बात चली

एक हुआ दीवाना एक ने सर तेशे से फोड़ लिया
कैसे कैसे लोग थे जिनसे रस्म-ए-वफ़ा की बात चली



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

gulashan gulashan sholaa-e-gul kii zulf-e-sabaa kii baat chalii
harf-e-junuu.N kii band-e-giraa.N kii jurm-o-sazaa kii baat chalii

zi.ndaa.N zi.ndaa.N shor-e-junuu.N hai mausam-e-gul ke aane se
mahafil mahafil ab ke baras har baaG-e-wafaa kii baat chalii

ahad-e-sitam hai dekhe.n ham aashuftaa-saro.n par kyaa guzare
shahar me.n usake band-e-kabaa kii ra.ng-e-hinaa kii baat chalii

ek hu_aa diiwaanaa ek ne sar teshe se pho.D liyaa
kaise kaise log the jinase rasm-e-wafaa kii baat chalii