गाना / Title: ज़रा सी बात पे हर रस्म तोड़ आया था mukesh gazal - zaraa sii baat pe har rasm to.D aayaa thaa ##mukesh gazal ##

चित्रपट / Film: non-Film

संगीतकार / Music Director: Khaiyyam

गीतकार / Lyricist: Jaan Nisar Akhtar

गायक / Singer(s): मुकेश-(Mukesh)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



ज़रा सी बात पे हर रस्म तोड़ आया था
दिल-ए-तबाह ने भी क्या मिज़ाज पाया था

मुआफ़ कर ना सकी मेरी ज़िन्दगी मुझको
वो एक लम्हा कि मैं तुझसे तंग आया था

शगुफ़्ता फूल सिमट कर कली बने जैसे
कुछ इस तरह से तूने बदन चुराया था

गुज़र गया है कोई लम्हा-ए-शरर की तरह
अभी तो मैं उसे पहचान भी न पाया था

पता नहीं कि मेरे बाद उनपे क्या गुज़री
मैं चाँद ख्वाब ज़माने में छोड़ आया था



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

zaraa sii baat pe har rasm to.D aayaa thaa
dil-e-tabaah ne bhii kyaa mizaaj paayaa thaa

muaaf kar naa sakii merii zindagii mujhako
vo ek lamhaa ki mai.n tujhase ta.ng aayaa thaa

shaguftaa phUl simaT kar kalii bane jaise
kuchh is tarah se tUne badan churaayaa thaa

guzar gayaa hai koI lamhaa-e-sharar kii tarah
abhii to mai.n use pahachaan bhii na paayaa thaa

pataa nahii.n ki mere baad unape kyaa guzarii
mai.n chaa.Nd khvaab zamaane me.n chho.D aayaa thaa