गाना / Title: उनसे बिछड़ कर ये जीना भी ऐ दिल कोई जीना है - unase bichha.D kar ye jiinaa bhii ai dil ko_ii jiinaa hai

चित्रपट / Film: Zehar-e-Ishq (Pakistani-Film)

संगीतकार / Music Director: Khurshid Anwar

गीतकार / Lyricist: Qateel Shifai

गायक / Singer(s): Zubaida Khanum

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



उनसे बिछड़ कर ये जीना भी ऐ दिल कोई जीना है
सावन हो या रुत भादों की ज़ेहर ग़मों का पीना है
उनसे बिछड़ कर ये जीना भी ऐ दिल कोई जीना है

पल भर का सुख पा कर हमने उम्र गुज़ारी रो रो कर -२
क़िस्मत ने इतना ना दिया था जितना हमसो छीना है
उनसे बिछड़ कर ये जीना भी ऐ दिल कोई जीना है

आप लगाई है सीने में हमने आग जुदाई की -२
जल जल कर हम राख हुये हैं फिर भी न वो तो सीना?? है
उनसे बिछड़ कर ये जीना भी ऐ दिल कोई जीना है
सावन हो या रुत भादों की ज़ेहर ग़मों का पीना है



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

unase bichha.D kar ye jiinaa bhii ai dil ko_ii jiinaa hai
saawan ho yaa rut bhaado.n kii zehar Gamo.n kaa piinaa hai
unase bichha.D kar ye jiinaa bhii ai dil ko_ii jiinaa hai

pal bhar kaa sukh paa kar hamane umr guzaarii ro ro kar -2
qismat ne itanaa naa diyaa thaa jitanaa hamaso chhiinaa hai
unase bichha.D kar ye jiinaa bhii ai dil ko_ii jiinaa hai

aap lagaa_ii hai siine me.n hamane aag judaa_ii kii -2
jal jal kar ham raakh huye hai.n phir bhii na wo to siinaa?? hai
unase bichha.D kar ye jiinaa bhii ai dil ko_ii jiinaa hai
saawan ho yaa rut bhaado.n kii zehar Gamo.n kaa piinaa hai