गाना / Title: कभी होता भरोसा ... मत उलझन में पड़ इनसान - kabhii hotaa bharosaa ... mat ulajhan me.n pa.D inasaan

चित्रपट / Film: Janam Janam Ke Fere/ Sati Annapoorna

संगीतकार / Music Director: S N Tripathi

गीतकार / Lyricist: भरत व्यास-(Bharat Vyas)

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)Manna Day

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



कभी होता भरोसा कभी होता भरम
पड़ा उलझन में है इनसान
तू है या नहीं भगवान -२

र :	मत उलझन में पड़ इनसान -२
तेरे सोचे बिना जब होता है सब तो समझ ले कहीं है भगवान

ल :	तू है या नहीं भगवान

	वो है अगर तो क्यों ना दिखाई दे कैसी ये उल्टी रीत है
	झूठा है वो उसके झूठे ही भय से झूठा जगत भयभीत है
र :	घन-घन गरजती हुई ये घटाएँ किसका सुनाती गीत हैं
	लहराते सागर की लहरों में गूँजे किसका अमर संगीत है
	जो दाता है सबका महान
	दिया जिसने जनम दिया जिसने ये तन क्यों न उसको सका तू पहचान
	मत उलझन में पड़ ...

म :	क्यों बालक की ममता रोती है क्यों अनहोनी जग में होती है
	मंदिर में दीप जलाते हैं जो उनके घर की बुझती ज्योति है क्यों
	अनहोनी जग में होती है क्यों

र :	जीवन-मरण हानि और फ़ायदा कर्मों का फल है उसका भी क़ायदा
	इनसान की कुछ भी चलती नहीं करनी अपनी कभी टलती नहीं
	भक्ति के भाव से उसको तू जान ले श्रद्धा की आँखों से उसको तू पहचान ले
	होता नहीं क्या अच.म्भा बड़ा आकाश किसके सहारे खड़ा
	फूलों में रंग झरनों में तरंग धरती में उमंग जो उठाता
	वो कौन क्या तुम
	बादल में बिजली पहाड़ों में फूल जो खिलाता 
	वो कौन क्या तुम
	वो है सर्वशक्तिमान कण-कण में बसे पर न दिखाई दे
	उसकी शक्ति को तू पहचान
	मत उलझन में पड़ ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

kabhii hotaa bharosaa kabhii hotaa bharam
pa.Daa ulajhan me.n hai inasaan
tuu hai yaa nahii.n bhagavaan -2

ra :	mat ulajhan me.n pa.D inasaan -2
tere soche binaa jab hotaa hai sab to samajh le kahii.n hai bhagavaan

la :	tuu hai yaa nahii.n bhagavaan

	vo hai agar to kyo.n naa dikhaa_ii de kaisii ye ulTii riit hai
	jhuuThaa hai vo usake jhuuThe hii bhay se jhuuThaa jagat bhayabhiit hai
ra :	ghan-ghan garajatii hu_ii ye ghaTaa_e.N kisakaa sunaatii giit hai.n
	laharaate saagar kii laharo.n me.n guu.Nje kisakaa amar sa.ngiit hai
	jo daataa hai sabakaa mahaan
	diyaa jisane janam diyaa jisane ye tan kyo.n na usako sakaa tuu pahachaan
	mat ulajhan me.n pa.D ...

ma :	kyo.n baalak kii mamataa rotii hai kyo.n anahonii jag me.n hotii hai
	ma.ndir me.n diip jalaate hai.n jo unake ghar kii bujhatii jyoti hai kyo.n
	anahonii jag me.n hotii hai kyo.n

ra :	jiivan-maraN haani aur faayadaa karmo.n kaa phal hai usakaa bhii qaayadaa
	inasaan kii kuchh bhii chalatii nahii.n karanii apanii kabhii Talatii nahii.n
	bhakti ke bhaav se usako tuu jaan le shraddhaa kii aa.Nkho.n se usako tuu pahachaan le
	hotaa nahii.n kyaa acha.mbhaa ba.Daa aakaash kisake sahaare kha.Daa
	phuulo.n me.n ra.ng jharano.n me.n tara.ng dharatii me.n uma.ng jo uThaataa
	vo kaun kyaa tum
	baadal me.n bijalii pahaa.Do.n me.n phuul jo khilaataa 
	vo kaun kyaa tum
	vo hai sarvashaktimaan kaN-kaN me.n base par na dikhaa_ii de
	usakii shakti ko tuu pahachaan
	mat ulajhan me.n pa.D ...