गाना / Title: मुझे देख एक अज़ाब में, कभी ख़ाब में - mujhe dekh ek azaab me.n, kabhii Kaab me.n

चित्रपट / Film: Yaadgar Ghazlen (Non-Film)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist:

गायक / Singer(s): Ghulam Ali

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



मुझे देख एक अज़ाब में, कभी ख़ाब में
कभी आतिश-ए-सर-ए-ख़ाब में, कभी ख़ाब में

कोई नक़्ल झूमता है निगाह के रू-ब-रू
कभी इंतज़ार-ए-सहाब में, कभी ख़ाब में

कभी बाद-ओ-आतिश-ए-तेज़ में है मेरी नमूँ
कभी ख़ाक में, कभी आब में, कभी ख़ाब में

कभी अपनी तर्ज़ बदल बदल के भी मिल हमें
कभी आश्नाई के बाब में, कभी ख़ाब में

हमें फिर से ताज़ा हक़ीक़तों का सुराग़ दे
कभी पर्दा आये हिजाब में, कभी ख़ाब में



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

mujhe dekh ek azaab me.n, kabhii Kaab me.n
kabhii aatish-e-sar-e-Kaab me.n, kabhii Kaab me.n

ko_ii naql jhuumataa hai nigaah ke ruu-ba-ruu
kabhii i.ntazaar-e-sahaab me.n, kabhii Kaab me.n

kabhii baad-o-aatish-e-tez me.n hai merii namuu.N
kabhii Kaak me.n, kabhii aab me.n, kabhii Kaab me.n

kabhii apanii tarz badal badal ke bhii mil hame.n
kabhii aashnaa_ii ke baab me.n, kabhii Kaab me.n

hame.n phir se taazaa haqiiqato.n kaa suraaG de
kabhii pardaa aaye hijaab me.n, kabhii Kaab me.n