गाना / Title: ज़ुल्मत-कदे में मेरे शब-ए-ग़म का जोश है - zulmat-kade me.n mere shab-e-Gam kaa josh hai

चित्रपट / Film: गैर फ़िल्म-(Non-Film)

संगीतकार / Music Director: Khayyam

गीतकार / Lyricist: Ghalib

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



ऐ ताज़ा वारेदान-ए-बिसात-ए-हवा-ए-दिल
ज़िन्हार गर तुम्हें हवस-ए-नाव-नोश है

देखो मुझे जो दीदा-ए-इबरत-निगाह हो
मेरी सुनो जो गोश-ए-नसीहत-निओश है

य शब को देखते थे के हर गोश-ए-बिसात
दामान-ए-बाग़बान-ओ-कफ़-ए-गुल-फ़रोश है

या सुबह-दम जो देखिये आकर तो बज़्म में
नै वो सूरूर-ओ-शोर न जोश-ओ-खरोश है

दाग़-ए-फ़िराक़-ए-सोहबत-ए-शब की जली हुई
इक शम्मा रह गई है सो वो भी खमोश है

ज़ुल्मत-कदे में मेरे शब-ए-ग़म का जोश है
इक शमा है दलील-ए-सहर सो खमोश है



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

ai taazaa vaaredaan-e-bisaat-e-hawaa-e-dil
zinhaar gar tumhe.n havas-e-naav-nosh hai

dekho mujhe jo diidaa-e-ibarat-nigaah ho
merii suno jo gosh-e-nasiihat-ni_osh hai

ya shab ko dekhate the ke har gosha-e-bisaat
daamaan-e-baaGabaan-o-kaf-e-gul-farosh hai

yaa subah-dam jo dekhiye aakar to bazm me.n
nai wo suuruur-o-shor na josh-o-kharosh hai

daaG-e-firaaq-e-sohabat-e-shab kii jalii hu_ii
ik shammaa rah ga_ii hai so wo bhii khamosh hai

zulmat-kade me.n mere shab-e-Gam kaa josh hai
ik shamaa hai daliil-e-sahar so khamosh hai