गाना / Title: बस के दुश्वार है हर काम का आसां होना - bas ke dushwaar hai har kaam kaa aasaa.n honaa

चित्रपट / Film: non-Film

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: Mirza Ghalib

गायक / Singer(s): Sumana Roy

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



बस के दुश्वार है हर काम का आसां होना
आदमी को भी मयस्सर नहीं इन्सां होना

गिरिया चाहे है ख़राबी मेरे काशाने की
दर-ओ-दीवार से टपके है बियाबां होना



वा-ए-दीवानगी-ए-शौक़ के हर दम मुझको
आप जाना उधर और आप ही हैराँ होना

हैफ़ उस चार गिरह कपड़े की क़िसमत ग़ालिब
जिसकी क़िसमत में है आशिक़ का गरेबाँ होना



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

bas ke dushwaar hai har kaam kaa aasaa.n honaa
aadamii ko bhii mayassar nahii.n insaa.n honaa

giriyaa chaahe hai Karaabii mere kaashaane kii
dar-o-diiwaar se Tapake hai biyaabaa.n honaa



waa-e-diiwaanagii-e-shauq ke har dam mujhako
aap jaanaa udhar aur aap hii hairaa.N honaa

haif us chaar girah kapa.De kii qisamat Gaalib
jisakii qisamat me.n hai aashiq kaa garebaa.N honaa