गाना / Title: हर एक रंज में राहत है आदमी के लिये - har ek ra.nj me.n raahat hai aadamii ke liye

चित्रपट / Film: गैर फ़िल्म-(Non-Film)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist:

गायक / Singer(s): Bhupinder

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



हर एक रंज में राहत है आदमी के लिये
पयाम-ए-मौत भी मुजदा है ज़िंदगी के लिये

चमन में फूल भी हर एक को नहीं मिलते
बहार आती है लेकिन किसी किसी के लिये

हमारी ख़ाक को दामन से झाड़ने वाले
सब इस मक़ाम से गुज़रेंगे ज़िंदगी के लिये

उन्हीं के शीशा-ए-दिल चूर चूर हो के रहें
तरस रहे थे जो दुनिया में दोस्ती के लिये

ये सोचता हूँ ज़माने को क्या हुआ या रब
किसी के दिल में मुहब्बत नहीं किसी के लिये

हमारे बाद अंधेरा रहेगा महफ़िल में
बहुत चराग़ जलाओगे रोशनी के लिये



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

har ek ra.nj me.n raahat hai aadamii ke liye
payaam-e-maut bhii mujadaa hai zi.ndagii ke liye

chaman me.n phuul bhii har ek ko nahii.n milate
bahaar aatii hai lekin kisii kisii ke liye

hamaarii Kaak ko daaman se jhaa.Dane waale
sab is maqaam se guzare.nge zi.ndagii ke liye

unhii.n ke shiishaa-e-dil chuur chuur ho ke rahe.n
taras rahe the jo duniyaa me.n dostii ke liye

ye sochataa huu.N zamaane ko kyaa hu_aa yaa rab
kisii ke dil me.n muhabbat nahii.n kisii ke liye

hamaare baad a.ndheraa rahegaa mahafil me.n
bahut charaaG jalaa_oge roshanii ke liye