गाना / Title: हम जियें या मरें हाय हम क्या करें - ham jiye.n yaa mare.n haay ham kyaa kare.n

चित्रपट / Film: Harishchandra Taramati

संगीतकार / Music Director: हृदयनाथ मंगेशकर-(Hridaynath Mangeshkar)

गीतकार / Lyricist: Virendra Misra

गायक / Singer(s): आशा भोसले-(Asha)Usha Mangeshkar

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



हम जियें या मरें हाय
हाय हम क्या करें
हम जियें या मरें हाय हम क्या करें -२
क्या करें -३
हाय हम क्या करें -४

खिल रही चाँदनी
मस्त है कामिनी
रूप है रंग है
अंग में अंग है
रूप है रंग है
अंग में अंग है
मत लगा तू अगन
जल रहा है बदन
कब तलक यूँही आहें भरें

हम जियें या मरें हाय हम क्या करें -२

फुलझड़ी है उमर
जल रहे हैं नगर
हर नज़र तेज़ है
हँस रही सेज है
हर नज़र तेज़ है
हँस रही सेज है
तूने घायल किया
देख लूँगी पिया
हम गुनाहों से काहे डरें

हम जियें या मरें हाय हम क्या करें -२

हा
आ
( ज़िंदगी धर्म है
पुण्य ही कर्म है ) -२
अरे चल
( ज़िंदगी प्रेम है
प्रेम ही मर्म है ) -२
प्यार तन से नहीं प्यार मन से करो
इसका मतलब है क्या ज़िंदगी भर मरो
वासना के परे आँख खोलो ज़रा -२
तुम भी हो तुम सही
हँस के बोलो ज़रा
तुम भी हो तुम सही
हँस के बोलो ज़रा

दो दिनों के लिये रूप है गंध है -२
इस लिये भोग लो वो ही आनन्द है -२
तुम समझते हो क्या ज़िंदगी ऐश है
ऐश हो या न हो क्या वो उपदेश है
सत्य है ज़िंदगी झूठ है वासना -२
वासना के बिना झूठ है साधना -२
भोग में त्याग है त्याग आनन्द है
दूर देखेगा क्या जो नज़र्बन्द है
रूप है दो घड़ी प्यार है सर्वदा
एक है झील तो एक है नर्मदा
रोशनी के लिये दीप बनकर जलो
मेघ बन्कर चलो मोम बनकर गलो
ज़िंदगी त्याग है या कि व्यापार है
जो कि ख़ुदगर्ज़ है उसका धिक्कार है
उसका धिक्कार है -२
चलते दुनिया का दुख हम हरें

हम जियें या मरें हाय हम क्या करें -३



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

ham jiye.n yaa mare.n haay
haay ham kyaa kare.n
ham jiye.n yaa mare.n haay ham kyaa kare.n -2
kyaa kare.n -3
haay ham kyaa kare.n -4

khil rahii chaa.Ndanii
mast hai kaaminii
ruup hai ra.ng hai
a.ng me.n a.ng hai
ruup hai ra.ng hai
a.ng me.n a.ng hai
mat lagaa tuu agan
jal rahaa hai badan
kab talak yuu.Nhii aahe.n bhare.n

ham jiye.n yaa mare.n haay ham kyaa kare.n -2

phulajha.Dii hai umar
jal rahe hai.n nagar
har nazar tez hai
ha.Ns rahii sej hai
har nazar tez hai
ha.Ns rahii sej hai
tuune ghaayal kiyaa
dekh luu.Ngii piyaa
ham gunaaho.n se kaahe Dare.n

ham jiye.n yaa mare.n haay ham kyaa kare.n -2

haa
aa
( zi.ndagii dharm hai
puNy hii karm hai ) -2
are chal
( zi.ndagii prem hai
prem hii marm hai ) -2
pyaar tan se nahii.n pyaar man se karo
isakaa matalab hai kyaa zi.ndagii bhar maro
vaasanaa ke pare aa.Nkh kholo zaraa -2
tum bhii ho tum sahii
ha.Ns ke bolo zaraa
tum bhii ho tum sahii
ha.Ns ke bolo zaraa

do dino.n ke liye ruup hai ga.ndh hai -2
is liye bhog lo wo hii aanand hai -2
tum samajhate ho kyaa zi.ndagii aish hai
aish ho yaa na ho kyaa wo upadesh hai
saty hai zi.ndagii jhuuTh hai vaasanaa -2
vaasanaa ke binaa jhuuTh hai saadhanaa -2
bhog me.n tyaag hai tyaag aanand hai
duur dekhegaa kyaa jo nazarband hai
ruup hai do gha.Dii pyaar hai sarvadaa
ek hai jhiil to ek hai narmadaa
roshanii ke liye diip banakar jalo
megh bankar chalo mom banakar galo
zi.ndagii tyaag hai yaa ki vyaapaar hai
jo ki Kudagarz hai usakaa dhikkaar hai
usakaa dhikkaar hai -2
chalate duniyaa kaa dukh ham hare.n

ham jiye.n yaa mare.n haay ham kyaa kare.n -3