गाना / Title: खुद को क्या समझती है कितना अकड़ती है - khud ko kyaa samajhatii hai kitanaa aka.Datii hai

चित्रपट / Film: Khiladi

संगीतकार / Music Director: Jatin-Lalit

गीतकार / Lyricist: Raj

गायक / Singer(s): AbhijitUdit Narayanकविता कृष्णमुर्ती-(Kavita Krishnamurthy)Sapana Mukherjee

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



जहाँ वो जायेगी, वहीं हम जायेंगे (२) 

खुद को क्या समझती है कितना अकड़ती है
कौलेज में नयी नयी आयी एक लड़की है

हो यारों ये हमें लगती है सिरफ़िरी
आओ चखा दें मज़ा

तौबा तौबा ये अदा
दीवानी है क्या पता
पूछो ये किस बात पे इतना इतराती है
जाने किस की भूल है
ये गोभी का फूल है
बिल्ली जैसे लगती है मेकप जब करती है
गालों पे जो लाली है
होठों पे गाली है
ये जो नखरे वाली है
लड़की है या है बला

खुद को क्या समझता है कितना अकड़ता है 
कौलेज का नया नया मजनू ये लगता है 
हमसे हो गया अब इसका सामना 
आओ चखा दें मज़ा 

खुद ...

हमको देता है गुलाब नीयत इसकी है खराब 
सावन के अँधे को तो हरियाली दिखती है 
क्या इसको ये होश है ये धरती पर बोझ है 
मर्द है ये सिर्फ़ नाम का आखिर किस काम का 
चेहरा अब क्यों लाल है 
बदली क्यों चाल है 
अरे इतना अब क्यों बेहाल है 
हम भी तो देखें ज़रा 
खुद को क्या 

हमसे आँखें चार करो छोड़ो गुस्सा प्यार करो 
यारों के हम यार हैं लड़ना बेकार है 

उलझन में ये पड़ गये शायद हम से डर गये 
देंगे भर के प्यार के देखो ये हार के 
प्यार कि ये रीत है हार भी जीत है 

सबसे बढ़ कर प्रीत है 

लगजा गले दिलरुबा 




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

jahaa.N vo jaayegii, vahii.n ham jaaye.nge (2) 

khud ko kyA samajhatii hai kitanaa aka.Datii hai
kaulej me.n nayii nayii aayii ek la.Dakii hai

ho yaaro.n ye hame.n lagatii hai sirafirii
aao chakhaa de.n mazaa

taubaa taubaa ye adA
diivaanii hai kyA pataa
puuchho ye kis baat pe itanaa itaraatii hai
jaane kis kii bhuul hai
ye gobhii kA phuul hai
billii jaise lagatii hai mekap jab karatii hai
gaalo.n pe jo laalii hai
hoTho.n pe gaalii hai
ye jo nakhare vaalii hai
la.DakI hai yA hai balA

khud ko kyA samajhataa hai kitanaa aka.Dataa hai 
kaulej kA nayaa nayaa majanuu ye lagataa hai 
hamase ho gayaa ab isakaa saamanaa 
aao chakhaa de.n mazaa 

khud ...

hamako detaa hai gulaab niiyat isakii hai kharaab 
saavan ke a.Ndhe ko to hariyaalii dikhatii hai 
kyA isako ye hosh hai ye dharatii par bojh hai 
mard hai ye sirf naam kA aakhir kis kaam kA 
cheharaa ab kyo.n laal hai 
badalii kyo.n chaal hai 
are itanA ab kyo.n behaal hai 
ham bhI to dekhe.n zaraa 
khud ko kyaa 

hamase aa.Nkhe.n chaar karo chho.Do gussaa pyaar karo 
yaaro.n ke ham yaar hai.n la.Danaa bekaar hai 

ulajhan me.n ye pa.D gaye shaayad ham se Dar gaye 
de.nge bhar ke pyaar ke dekho ye haar ke 
pyaar ki ye riit hai haar bhI jiit hai 

sabase ba.Dh kar priit hai 

lagajaa gale dilarubaa