गाना / Title: रात के हमसफ़र, थक के घर को चले - raat ke hamasafar, thak ke ghar ko chale

चित्रपट / Film: An Evening In Paris

संगीतकार / Music Director: शंकर - जयकिशन-(Shankar-Jaikishan)

गीतकार / Lyricist: Shailendra

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)आशा भोसले-(Asha)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



रात के हमसफ़र, थक के घर को चले
झूमती आ रही है सुबह प्यार की
देख कर सामने, रूप की रोशनी
फिर लुटी जा रही है सुबह प्यार की

रात ने प्यार के जाम भर कर दिये
आँखों आँखों से जो मैं ने तुमने पिये
होश तो अब तलक़ जा के लौटे नहीं
जाने क्या ला रही है सुबह प्यार की
रात के हमसफ़र   ...




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

raat ke hamasafar, thak ke ghar ko chale
jhuumatii aa rahii hai subah pyaar kii
dekh kar saamane, ruup kii roshanii
phir luTii jaa rahii hai subah pyaar kii

raat ne pyaar ke jaam bhar kar diye
aa.Nkho.n aa.Nkho.n se jo mai.n ne tumane piye
hosh to ab talaq jaa ke lauTe nahii.n
jaane kyaa laa rahii hai subah pyaar kii
raat ke hamasafar   ...