गाना / Title: कभी ऐ हक़ीक़त-ए-मुंतज़र, नज़र आ लिबास-ए-मजाज़ में - kabhii ai haqiiqat-e-mu.ntazar, nazar aa libaas-e-majaaz me.n

चित्रपट / Film: Dulhan Ek Raat Ki

संगीतकार / Music Director: मदन मोहन-(Madan Mohan)

गीतकार / Lyricist: Iqbal

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)chorus

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



कभी ऐ हक़ीक़त-ए-मुंतज़र, नज़र आ लिबास-ए-मजाज़ में
के हज़ारों सजदे तड़प रहे हैं मेरी जबीन-ए-नियाज़ में

न बचा-बचा के तू रख इसे, तेरा आईना है वो आईना
के शिकस्ता हो तो अज़ीज़तर है निगाह-ए-आईनासाज़ में

न वो इश्क़ में रहीं गर्मियाँ, न वो हुस्न में रहीं शोख़ियाँ
न वो ग़ज़नवी में तड़प रही
न वो खम है ज़ुल्फ़-ए-आयाज़ में

मैं जो सर-ब-सजदा कभी हुआ, तो ज़मीं से आने लगी सदा
तेरा दिल तो है सनम आशना, तुझे क्या मिलेगा नमाज़ में

कभी ऐ हक़ीक़त-ए-मुंतज़र, नज़र आ लिबास-ए-मजाज़ में
के हज़ारों सजदे तड़प रहे हैं मेरी जबीन-ए-नियाज़ में












        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

kabhii ai haqiiqat-e-mu.ntazar, nazar aa libaas-e-majaaz me.n
ke hazaaro.n sajade ta.Dap rahe hai.n merii jabiin-e-niyaaz me.n

na bachaa-bachaa ke tuu rakh ise, teraa aaiinaa hai vo aaiinaa
ke shikastaa ho to aziizatar hai nigaah-e-aaiinaasaaz me.n

na vo ishq me.n rahii.n garmiyaa.N, na vo husn me.n rahii.n shoKiyaa.N
na vo Gazanavii me.n ta.Dap rahii
na vo kham hai zulf-e-aayaaz me.n

mai.n jo sar-ba-sajadaa kabhii huaa, to zamii.n se aane lagii sadaa
teraa dil to hai sanam aashanaa, tujhe kyaa milegaa namaaz me.n

kabhii ai haqiiqat-e-mu.ntazar, nazar aa libaas-e-majaaz me.n
ke hazaaro.n sajade ta.Dap rahe hai.n merii jabiin-e-niyaaz me.n