गाना / Title: रंग और नूर की बारात किसे पेश करूँ - ra.ng aur nuur kii baaraat kise pesh karuu.N

चित्रपट / Film: Ghazal

संगीतकार / Music Director: मदन मोहन-(Madan Mohan)

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



रंग और नूर की बारात किसे पेश करूँ
ये मुरादों की हंसीं रात किसे पेश करूँ, किसे पेश करूँ

मैने जज़बात निभाए हैं उसूलों की जगह    (२)
अपने अरमान पिरो लाया हूँ फूलों की जगह
तेरे सेहरे की ...
तेरे सेहरे की ये सौगात किसे पेश करूँ
ये मुरादों की हसीं रात किसे पेश करूँ, किसे पेश करूँ

ये मेरे शेर मेरे आखिरी नज़राने हैं       (२)
मैं उन अपनों मैं हूँ जो आज से बेगाने हैं
बेत-आ-लुख़ सी मुलाकात किसे पेश करूँ
ये मुरादों की हंसीं रात किसे पेश करूँ, किसे पेश करूँ

सुर्ख जोड़े की तबोताब मुबारक हो तुझे       (२)
तेरी आँखों का नया ख़्वाब मुबारक हो तुझे
ये मेरी ख़्वाहिश ये ख़यालात किसे पेश करूँ
ये मुरादों की हंसीं रात किसे पेश करूँ, किसे पेश करूँ

कौन कहता है चाहत पे सभी का हक़ है      (२)
तू जिसे चाहे तेरा प्यार उसी का हक़ है
मुझसे कह दे ...
मुझसे कह दे मैं तेरा हाथ किसे पेश करूँ
ये मुरादों की हंसीं रात किसे पेश करूँ, किसे पेश करूँ

रंग और नूर की ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

ra.ng aur nuur kii baaraat kise pesh karuu.N
ye muraado.n kii ha.nsii.n raat kise pesh karuu.N, kise pesh karuu.N

maine jazabaat nibhaae hai.n usuulo.n kii jagah    (2)
apane aramaan piro laayaa huu.N phuulo.n kii jagah
tere sehare kii ...
tere sehare kii ye saugaat kise pesh karuu.N
ye muraado.n kii hasii.n raat kise pesh karuu.N, kise pesh karuu.N

ye mere sher mere aakhirii nazaraane hai.n       (2)
mai.n un apano.n mai.n huu.N jo aaj se begaane hai.n
beta-aa-luK sii mulaakaat kise pesh karuu.N
ye muraado.n kii ha.nsii.n raat kise pesh karuu.N, kise pesh karuu.N

surkh jo.De kii tabotaab mubaarak ho tujhe       (2)
terii aa.Nkho.n kaa nayaa Kvaab mubaarak ho tujhe
ye merii Kvaahish ye Kayaalaat kise pesh karuu.N
ye muraado.n kii ha.nsii.n raat kise pesh karuu.N, kise pesh karuu.N

kaun kahataa hai chaahat pe sabhii kaa haq hai      (2)
tuu jise chaahe teraa pyaar usii kaa haq hai
mujhase kah de ...
mujhase kah de mai.n teraa haath kise pesh karuu.N
ye muraado.n kii ha.nsii.n raat kise pesh karuu.N, kise pesh karuu.N

ra.ng aur nuur kii ...