गाना / Title: कब मेरा नशेमन अहल-ए-चमन - kab meraa nasheman ahal-e-chaman

चित्रपट / Film: "अज्ञात"-(Unknown)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist:

गायक / Singer(s): Habib Wali Mohammad

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



कब मेरा नशेमन अहल-ए-चमन गुलशन में गँवारा करते हैं
गुँचे अपनी आवाज़ों में बिजली को पुकारा करते हैं

पोंछो न अरक़ रुख़्सारों से रंगीनी-ए-husn को बढ़ने दो
सुनते हैं कि शबनम के क़तरे फूलों को निखारा करते हैं

जाती हुई मैय्यत देख के भी अल्लह तुम उठ कर आ न सके
दो चार क़दम तो दुशमन भी तक़लीफ़ गँवारा करते हैं

अब नज़ा का आलम है मुझ पर तुम अपनी मुहब्बत वापस लो
जब कश्ती डूबने लगती है तो बोझ उतारा करते हैं




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

kab meraa nasheman ahal-e-chaman gulashan me.n ga.Nvaaraa karate hai.n
gu.Nche apanii aavaazo.n me.n bijalii ko pukaaraa karate hai.n

po.nchho na araq ruKsaaro.n se ra.ngiinii-e-husn ko ba.Dhane do
sunate hai.n ki shabanam ke qatare phuulo.n ko nikhaaraa karate hai.n

jaatii huii maiyyat dekh ke bhii allah tum uTh kar aa na sake
do chaar qadam to dushaman bhii taqaliif ga.Nvaaraa karate hai.n

ab nazaa kaa aalam hai mujh par tum apanii muhabbat vaapas lo
jab kashtii Duubane lagatii hai to bojh utaaraa karate hai.n