गाना / Title: पर्बतों के पेड़ों पर शाम का बसेरा है - parbato.n ke pe.Do.n par shaam kaa baseraa hai

चित्रपट / Film: Shagun

संगीतकार / Music Director: Khaiyyam

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)Suman Kalyanpur

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



र: पर्बतों के पेड़ों पर शाम का बसेरा है
    सुरमई उजाला है, चम्पई अंधेरा है
    
सु: दोनों वक़्त मिलते हैं दो दिलों की सूरत से
    आस्मं ने खुश होके रँग सा बिखेरा है
    
र: ठहते-ठहरे पानी में गीत सर-सराते हैं
    भीगे-भीगे झोंकों में खुशबुओं का डेरा है
    पर्बतों के पेड़ों पर ...
    
सु: क्यों न जज़्ब हो जाएं इस हसीन नज़ारे में
    रोशनी का झुरमट है मस्तियों का घेरा है
    पर्बतों के पेड़ों पर ...
    
र: अब किसी नज़ारे की दिल को आर्ज़ू क्यों है
    जब से पा लिया तुम को सब जहाँ मेरा है

दो: जब से पा लिया तुम को सब जहाँ मेरा है
    पर्बतों के पेड़ों पर ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

ra: parbato.n ke pe.Do.n par shaam kaa baseraa hai
    surama_ii ujaalaa hai, champa_ii a.ndheraa hai
    
su: dono.n vaqt milate hai.n do dilo.n kii suurat se
    aasma.n ne khush hoke ra.Ng saa bikheraa hai
    
ra: Thahate-Thahare paanii me.n giit sar-saraate hai.n
    bhiige-bhiige jho.nko.n me.n khushabu_o.n kaa Deraa hai
    parbato.n ke pe.Do.n par ...
    
su: kyo.n na jazb ho jaae.n is hasiin nazaare me.n
    roshanii kaa jhuramaT hai mastiyo.n kaa gheraa hai
    parbato.n ke pe.Do.n par ...
    
ra: ab kisii nazaare kii dil ko aarzuu kyo.n hai
    jab se paa liyaa tum ko sab jahaa.N meraa hai

do: jab se paa liyaa tum ko sab jahaa.N meraa hai
    parbato.n ke pe.Do.n par ...