गाना / Title: अर्ध सत्य - ardh satya

चित्रपट / Film: Ardh Satya

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: Dilip Chitre

गायक / Singer(s):

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          




चक्रव्यूह में घुसने से पहले
मैं कौन था और कैसा था
ये मुझे याद ही न रहेगा
चक्रव्यूह में घुसने के बाद
मेरे और चक्रव्यूह के बीच
सिर्फ़ एक जान-लेवा निकटता थी
इसका मुझे पता ही न चलेगा

चक्रव्यूह से बाहर निकलने पर
मैं मुक्त हो जाऊँ भले ही
फिर भी
चक्रव्यूह की रचना में फ़र्क़ ही न पड़ेगा

मरूँ या मारूँ
मारा जाऊँ या जान से मार दूँ
इस का फ़ैसला कभी न हो पायेगा

सोया हुआ आदमी जब नींद से उठ कर
चलना शुरू करता है
तब सपनों का संसार उसे दुबारा
दिख ही न पायएगा

उस रोशनी में जो निर्णय की रोशनी है
सब कुछ समान होगा क्या?

एक पलड़े में नपुंसकता
एक पलड़े में पौरुष
और ठीक तराज़ू के काँते पर
अर्ध-सत्य





कृति के पहले आया हुआ विचार
और विचार के बाद वाली क्ऱ^ति
इन के दर्मियान आहुति
जो मैं ने दी

जिन जिन {क्ष्ह}अणों में मैं
भूल गया था देह भान
जिन जिन {क्ष्ह}अणों में
उलझ गया था कृति में
उन्हीं {क्ष्ह}अणों में
मुझे दिखाई दी
तुम्हारी सम्पूर्ण आकृति

हो चुकी है अब मेरी कृति पुरी
और तुम्हारी आकृति बुझ गई




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      


chakravyuuh me.n ghusane se pahale
mai.n kaun thaa aur kaisaa thaa
ye mujhe yaad hii na rahegaa
chakravyuuh me.n ghusane ke baad
mere aur chakravyuuh ke biich
sirf ek jaan-levaa nikaTataa thii
isakaa mujhe pataa hii na chalegaa

chakravyuuh se baahar nikalane par
mai.n mukt ho jaa_uu.N bhale hii
phir bhii
chakravyuuh kii rachanaa me.n farq hii na pa.Degaa

maruu.N yaa maaruu.N
maaraa jaa_uu.N yaa jaan se maar duu.N
is kaa faisalaa kabhii na ho paayegaa

soyaa huaa aadamii jab nii.nd se uTh kar
chalanaa shuruu karataa hai
tab sapano.n kaa sa.nsaar use dubaaraa
dikh hii na paayaegaa

us roshanii me.n jo nirNay kii roshanii hai
sab kuchh samaan hogaa kyaa?

ek pala.De me.n napu.nsakataa
ek pala.De me.n paurushh
aur Thiik taraazuu ke kaa.Nte par
ardh-satya





kR^iti ke pahale aayaa huaa vichaar
aur vichaar ke baad vaalii kR^ti
in ke darmiyaan aahuti
jo mai.n ne dii

jin jin {kshh}aNo.n me.n mai.n
bhuul gayaa thaa deh bhaan
jin jin {kshh}aNo.n me.n
ulajh gayaa thaa kR^iti me.n
unhii.n {kshh}aNo.n me.n
mujhe dikhaa_ii dii
tumhaarii sampuurN aakR^iti

ho chukii hai ab merii kR^iti purii
aur tumhaarii aakR^iti bujh ga_ii