गाना / Title: तुम पूछते हो इश्क़ बला है के नहीं है - tum puuchhate ho ishq balaa hai ke nahii.n hai

चित्रपट / Film: Naqli Nawaab

संगीतकार / Music Director: Babul

गीतकार / Lyricist: Kaifi Azmi

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          

 

hmm... 

तुम पूछते हो इश्क़ बला है के नहीं है 
क्या जाने तुम्हें खौफ़-ए-खुदा है के नहीं है 

जीने का हुनर सबको सिखाता है यही इश्क़ 
इन्सान को इन्सान बनाता है यही इश्क़ 
बन्दे को खुदा करके दिखता है यही इश्क़ 
इस इश्क़ की तौहीन ख़ता है के नहीं है 

माना है बड़ी दर्द भरी इश्क़ कि रूदाद 
होती नहीं मिटकर भी मोहब्बत कभी बरबाद 
हर दौर में मजनू हुए, हर दौर में फ़रहाद 
हर साज़ में आज उनकी सदा है के नहीं है 

ग़म फूलने-फलने का भुलाकर कभी देखो 
सर इश्क़ के क़दमों पे झुकाकर कभी देखो 
घरबार मोहब्बत में लुटाकर कभी देखो 
खोने में भी पाने का मज़ा है के नहीं है 

जब हो ही गया प्यार तो सँसार का डर क्या 
है कौन भला कौन बुरा, इसकी खबर क्या 
दिल में ना उतर जाये तो उल्फ़त कि नज़र क्या 
हम दिल के पुजारी हैं पता है के नहीं है




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
       

##hmm## ... 

tum puuchhate ho ishq balaa hai ke nahii.n hai 
kyA jaane tumhe.n khauf-e-khudaa hai ke nahii.n hai 

jiine kA hunar sabako sikhaataa hai yahii ishq 
insaan ko insaan banaataa hai yahii ishq 
bande ko khudaa karake dikhataa hai yahii ishq 
is ishq kii tauhiin Kataa hai ke nahii.n hai 

maanaa hai ba.DI dard bharii ishq ki ruudaad 
hotI nahii.n miTakar bhI mohabbat kabhI barabaad 
har daur me.n majanuu hue, har daur me.n farahaad 
har saaz me.n aaj unakii sadA hai ke nahii.n hai 

Gam phuulane-phalane kA bhulaakar kabhI dekho 
sar ishq ke qadamo.n pe jhukaakar kabhI dekho 
gharabaar mohabbat me.n luTaakar kabhI dekho 
khone me.n bhI paane kA mazaa hai ke nahii.n hai 

jab ho hii gayaa pyaar to sa.Nsaar kA Dar kyaa 
hai kaun bhalaa kaun buraa, isakii khabar kyaa 
dil me.n nA utar jaaye to ulfat ki nazar kyaa 
ham dil ke pujaarii hai.n pataa hai ke nahii.n hai