गाना / Title: देखा है ज़िंदगी को कुछ इतना करीब से - dekhaa hai zi.ndagii ko kuchh itanaa kariib se

चित्रपट / Film: Ek Mahal Ho Sapnon Ka

संगीतकार / Music Director: Ravi

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): किशोर कुमार-(Kishore Kumar)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



देखा है ज़िंदगी को, कुछ इतना करीब से
चहरे तमाम लगने लगे हैं अजीब से

कहने को दिल की बात जिन्हें ढूँढते थे हम - २
महफ़िल मेइं आ गये हैं वो अपने नसीब से
देखा है ज़िंदगी को, कुछ इतना करीब से

नीलम हो रहा था किसी नाज़नीन का प्यार - २
क़ीमत नहीं चुकाई गैइ इक ग़रीब से
देखा है ज़िंदगी को, कुछ इतना करीब से

तेरी वफ़ा की लाश पे ला मैं ही डाल दूँ - २
रेशम का ये कफ़न जो मिला है रक़ीब से
देखा है ज़िंदगी को, कुछ इतना करीब से



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

dekhaa hai zi.ndagii ko, kuchh itanaa kariib se
chahare tamaam lagane lage hai.n ajiib se

kahane ko dil kii baat jinhe.n Dhuu.NDhate the ham - 2
mahafil mei.n aa gaye hai.n vo apane nasiib se
dekhaa hai zi.ndagii ko, kuchh itanaa kariib se

niilam ho rahaa thaa kisii naazaniin kaa pyaar - 2
qiimat nahii.n chukaaii gaii ik Gariib se
dekhaa hai zi.ndagii ko, kuchh itanaa kariib se

terii vafaa kii laash pe laa mai.n hii Daal duu.N - 2
resham kaa ye kafan jo milaa hai raqiib se
dekhaa hai zi.ndagii ko, kuchh itanaa kariib se