गाना / Title: हुस्न हाज़िर है मुहब्बत की सज़ा पाने को - husn haazir hai muhabbat kii sazaa paane ko

चित्रपट / Film: Laila Majnu

संगीतकार / Music Director: मदन मोहन-(Madan Mohan)

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          




हुस्न हाज़िर है मुहब्बत की सज़ा पाने को
कोई पत्थर से न मारे मेरे दीवाने को

मेरे दीवाने को इतना न सताओ लोगों
ये तो वहशी है तुम्हीं होश में आओ लोगों
बहुत रंजूर है ये, ग़मों से चूर है ये
ख़ुदा का ख़ौफ़ उठाओ बहुत मजबूर है ये
क्यों चले आये हो बेबस पे सितम ढाने को
कोई पत्थर से न मारे ...

मेरे जलवों की ख़ता है जो ये दीवाना हुआ
मैं हूँ मुजरिम ये अगर होश से बेगाना हुआ
मुझे सूली चढ़ा दो या शोलों पे जला दो
कोई शिक़वा नहीं है जो जी चाहे सज़ा दो
बख़्श दो इस को मैं तैयार हूँ मिट जाने को
कोई पत्थर से न मारे ...

पत्थरों को भी वफ़ा फूल बना सकती है
ये तमाशा भी सर-ए-आम दिखा सकती है
लो अब पत्थर उठाओ, ज़माने के ख़ुदाओं
मैं तुम को आज़माऊँ, मुझे तुम आज़माओ
अब दुआ अर्श पे जाती है असर लाने को
कोई पत्थर से न मारे ...




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      


husn haazir hai muhabbat kii sazaa paane ko
koii patthar se na maare mere diivaane ko

mere diivaane ko itanaa na sataao logo.n
ye to vahashii hai tumhii.n hosh me.n aao logo.n
bahut ra.njuur hai ye, Gamo.n se chuur hai ye
Kudaa kaa Kauf uThaao bahut majabuur hai ye
kyo.n chale aaye ho bebas pe sitam Dhaane ko
koii patthar se na maare ...

mere jalavo.n kii Kataa hai jo ye diivaanaa huaa
mai.n huu.N mujarim ye agar hosh se begaanaa huaa
mujhe suulii cha.Dhaa do yaa sholo.n pe jalaa do
koii shiqavaa nahii.n hai jo jii chaahe sazaa do
baKsh do is ko mai.n taiyaar huu.N miT jaane ko
koii patthar se na maare ...

pattharo.n ko bhii vafaa phuul banaa sakatii hai
ye tamaashaa bhii sar-e-aam dikhaa sakatii hai
lo ab patthar uThaao, zamaane ke Kudaao.n
mai.n tum ko aazamaa_uu.N, mujhe tum aazamaa_o
ab duaa arsh pe jaatii hai asar laane ko
koii patthar se na maare ...