गाना / Title: जब हम चलें तो साथ हमारा साया भी न दे - jab ham chale.n to saath hamaaraa saayaa bhii na de

चित्रपट / Film: Pyaasa

संगीतकार / Music Director: सचिन देव बर्मन-(S D Burman)

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



जब हम चलें तो साथ हमारा साया भी न दे
जब तुम चलो ज़मीं चले आस्मां चले
जब हम रुकें तो साथ रुके शम-ए-बेकसी
जब तुम रुको बहार रुके चाँदनी रुके

ये हँसता हुआ फूल, ये महका हुआ गुलशन
ये रँग और नूर में डूबे हुए राहें

ये फूलों का रस पीके मचलते हुए भंवरे
मैं दूँ भी तो क्या दूँ ऐ शोख नज़ारों
ले दे के मेरे पास कुछ आँसू हैं, कुछ आहें

ओ आस्मां-वाले कभी तो निगाह कर -२
अब तक ये ज़ुल्म सहते रहे ख़ामोशी से हम
तंग आ चुके हैं कशमाकश-ए-ज़िंदगी से हम

ठुकरा न दे जहाँ को कहीं बे-दिली से हम
मायूसी-ए-मक-ए-मुहब्बत न पूछिये
अपनों से पेश आइये, हैं बे-गांगेगी से हम

आवाज़: भाई, कोई खुशी का गीत सुनाओ

हम ग़मज़दा हैं, लाएं कहाँ से खुशी के गीत
देंगे वोही हो पाएंगे इस ज़िंदगी से हम

ग़र कभी मिले ज़िंदगी को इत्तेफ़्फ़ाक़ से
पूछेंगे अपना हाल, तेरी बेबसी से हम

उभरेंगे एक बार अभी दिल के वलवले
माना के दब गए हैं ग़म-ए-ज़िंदगी से हम

लो आज हमने तोड़ दिआ रिश्ता-ए-उम्मीद
लो अब कभी ग़िला न करेंगे किसी से हम



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

jab ham chale.n to saath hamaaraa saayaa bhii na de
jab tum chalo zamii.n chale aasmaa.n chale
jab ham ruke.n to saath ruke sham-e-bekasii
jab tum ruko bahaar ruke chaa.Ndanii ruke

ye ha.Nsataa huaa phuul, ye mahakaa huaa gulashan
ye ra.Ng aur nuur me.n Duube hue raahe.n

ye phuulo.n kaa ras piike machalate hue bha.nvare
mai.n duu.N bhii to kyaa duu.N ai shokh nazaaro.n
le de ke mere paas kuchh aa.Nsuu hai.n, kuchh aahe.n

o aasmaa.n-vaale kabhii to nigaah kar -2
ab tak ye zulm sahate rahe Kaamoshii se ham
ta.ng aa chuke hai.n kashamaakash-e-zi.ndagii se ham

Thukaraa na de jahaa.N ko kahii.n be-dilii se ham
maayuusii-e-mak-e-muhabbat na puuchhiye
apano.n se pesh aaiye, hai.n be-gaa.ngegii se ham

aavaaz: bhaaii, koii khushii kaa giit sunaao

ham Gamazadaa hai.n, laae.n kahaa.N se khushii ke giit
de.nge vohii ho paae.nge is zi.ndagii se ham

Gar kabhii mile zi.ndagii ko itteffaaq se
puuchhe.nge apanaa haal, terii bebasii se ham

ubhare.nge ek baar abhii dil ke valavale
maanaa ke dab gae hai.n Gam-e-zi.ndagii se ham

lo aaj hamane to.D di_aa rishtaa-e-ummiid
lo ab kabhii Gilaa na kare.nge kisii se ham