गाना / Title: हम हैं मता-ए-कूचा-ओ-बाज़ार की तरह - ham hai.n mataa-e-kuuchaa-o-baazaar kii tarah

चित्रपट / Film: Dastak

संगीतकार / Music Director: मदन मोहन-(Madan Mohan)

गीतकार / Lyricist: मजरूह सुलतान पुरी-(Majrooh)

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



हम हैं मता-ए-कूचा-ओ-बाज़ार की तरह
उठती है हर निगाह खरीदार की तरह

वो तो कहीं हैं और मगर दिल के आस पास
मगर दिल के आस पास
फिरती है कोई शह निगाह-ए-यार की तरह
हम हैं ...

मजरूह लिख रहे हैं वो अहल-ए-वफ़ा का नाम
अहल-ए-वफ़ा का नाम
हम भी खड़े हुए हैं गुनहगार की तरह
हम हैं ...




इस कू-ए-तिश्नगी में बहुत है के एक जाम
हाथ आ गया है दौलत-ए-बेदार की तरह

सीधी है राह-ए-शौक़ पर यूँ ही कभी कभी
ख़म हो गई है गेसू-ए-दिलदार की तरह

अब जा के कुछ खुला हुनर-ए-नाखून-ए-जुनून
ज़ख़्म-ए-जिगर हुए लब-ओ-रुख़्सार की तरह




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

ham hai.n mataa-e-kuuchaa-o-baazaar kii tarah
uThatii hai har nigaah khariidaar kii tarah

vo to kahii.n hai.n aur magar dil ke aas paas
magar dil ke aas paas
phiratii hai koii shah nigaah-e-yaar kii tarah
ham hai.n ...

majaruuh likh rahe hai.n vo ahal-e-vafaa kaa naam
ahal-e-vafaa kaa naam
ham bhii kha.De hue hai.n gunahagaar kii tarah
ham hai.n ...




is kuu-e-tishnagii me.n bahut hai ke ek jaam
haath aa gayaa hai daulat-e-bedaar kii tarah

siidhii hai raah-e-shauq par yuu.N hii kabhii kabhii
Kam ho ga_ii hai gesuu-e-diladaar kii tarah

ab jaa ke kuchh khulaa hunar-e-naakhuun-e-junuun
zaKm-e-jigar hue lab-o-ruKsaar kii tarah