गाना / Title: ये अफ़साना नहीं है - ye afasaanaa nahii.n hai

चित्रपट / Film: Mehandi

संगीतकार / Music Director: Ravi

गीतकार / Lyricist: Qamil Rashid

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          




भरी महफ़िल है और अब रंग पर महफ़िल भी आयी है
उठी है हूक़ भी दिल से तो दिल ही में दबायी है
मगर जब दिल दुखाया है तो लब तक बात आयी है
ये अफ़साना नहीं ऐ सुननेवालों दिल की बातें हैं
सियाही ग़म की है वैसे बड़ी रंगीन रातें हैं
ये अफ़साना नहीं है   ...

जो समझो तो जनाज़े हैं जो देखो तो बरातें हैं
ये अफ़साना नहीं है   ...

है गुस्ताख़ी मगर कहना है कुछ दुनिया से, मर्दों से
शरीफ़ों मनचलों मुल्लाहों से अवारागर्दों से
है बेपर्दा मगर ताने दिये जाते हैं पर्दों से
ये अफ़सान नहीं है ...

जो सच पूछो तुम्हीं मर्दों ने ये कोठे सजाये हैं
हसीं बाज़ार तुमने अप्ने हाथों से लगाये हैं
तुम्हारी ही बदौलत हम भी इस महफ़िल में आये हैं
ये अफ़सान नहीं है ...

ये क्या दुनिया है हम से हर घड़ी नफ़रत जताती है
बुरा कहती है हम को फिर बुराई करने जाती है
हमें दुनिया की इस बे-गैरती पर शर्म आती है
ये अफ़सान नहीं ऐ सुननेवालों दिल की बातें हैं
सियाही ग़म की है वैसे बड़ी रंगीन रातें है
ये अफ़सान नहीं है ...

तुम अप्नि बिवियोन को छोद्कर कोठोन पे जाते हो
तुम अप्ने घर कि दौलत को वहान जाकेर लुताते हो
खुशामदि *नाज़ुबळारि* पर तुम जोओति भि खाते हो
खुशामदि *नाज़ुबळारि* पर तुम जोओति भि खाते हो
ये अफ़्सान नहींहै

जो सम्झो थाप तबलेय कि तो ये मुन्ह पर तमाचे है
ये सारन्गि के तारोन पर दिलोन के तार बजते हैन
यहन इन्सानियत खुद नाच्ति है हम नचाते हैन
ये अफ़्सान नहींहै

ये जो कोठे कि मल्लिक है ये जो कोओचो कि रानि है
जो पढ सक्ते हो पढ लो ये तुम्हारि हि कहानि है
जो पढ सक्ते हो पढ लो ये तुम्हारि हि कहानि है
समाज-ओ-कौम कि बे-आब्रोओयि कि निशानि है
समाज-ओ-कौम कि बे-आब्रोओयि कि निशानि है
ये अफ़्सान नहींहै

अरेय ओ ज़िन्दगि के ठेकेदारोन कुछ तो शर्माओ
उठाकर हुस्न क बज़ार अप्ने घर में ले जाओ
अरेय ओ ज़िन्दगि के ठेकेदारोन कुछ तो शर्माओ
उठाकर हुस्न क बज़ार अप्ने घर में ले जाओ
सहर दो
सहर दो और इन्को म बेहेन बेति केहल्वाओ
सहर दो
सहर दो और इन्को म बेहेन बेति केहल्वाओ
ये अफ़्सान नहींहै
ये अफ़्सान नहींऐये सुननेवालो दिल कि बातें हैन
सियाहि घम कि है वैसे बदि रन्गेएन रातें है
ये अफ़्सान नहींहै




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      


bharii mahafil hai aur ab ra.ng par mahafil bhii aayii hai
uThii hai huuq bhii dil se to dil hii me.n dabaayii hai
magar jab dil dukhaayaa hai to lab tak baat aayii hai
ye afasaanaa nahii.n ai sunanevaalo.n dil kii baate.n hai.n
siyaahii Gam kii hai vaise ba.Dii ra.ngiin raate.n hai.n
ye afasaanaa nahii.n hai   ...

jo samajho to janaaze hai.n jo dekho to baraate.n hai.n
ye afasaanaa nahii.n hai   ...

hai gustaaKii magar kahanaa hai kuchh duniyaa se, mardo.n se
shariifo.n manachalo.n mullaaho.n se avaaraagardo.n se
hai bepardaa magar taane diye jaate hai.n pardo.n se
ye afasaana nahii.n hai ...

jo sach puuchho tumhii.n mardo.n ne ye koThe sajaaye hai.n
hasii.n baazaar tumane apne haatho.n se lagaaye hai.n
tumhaarii hii badaulat ham bhii is mahafil me.n aaye hai.n
ye afasaana nahii.n hai ...

ye kyaa duniyaa hai ham se har gha.Dii nafarat jataatii hai
buraa kahatii hai ham ko phir buraa_ii karane jaatii hai
hame.n duniyaa kii is be-gairatii par sharm aatii hai
ye afasaana nahii.n ai sunanevaalo.n dil kii baate.n hai.n
siyaahii Gam kii hai vaise ba.Dii ra.ngiin raate.n hai
ye afasaana nahii.n hai ...

tum apni biwiyon ko chhodkar koThon pe jaate ho
tum apne ghar ki daulat ko wahaan jaaker lutaate ho
khushaamadi *naazubaldaari* par tum jooti bhi khaate ho
khushaamadi *naazubaldaari* par tum jooti bhi khaate ho
ye afsaana nahii.nhai

jo samjho thaap tabaley ki to ye munh par tamaache hai
ye saarangi ke taaron par dilon ke taar bajate hain
yahan insaaniyat khud naachti hai ham nachaate hain
ye afsaana nahii.nhai

ye jo koThe ki mallika hai ye jo koocho ki raani hai
jo paDh sakte ho paDh lo ye tumhaari hi kahaani hai
jo paDh sakte ho paDh lo ye tumhaari hi kahaani hai
samaaj-o-kaum ki be-aabrooyi ki nishaani hai
samaaj-o-kaum ki be-aabrooyi ki nishaani hai
ye afsaana nahii.nhai

arey o zindagi ke Thekedaaron kuchh to sharmaao
uThaakar husn ka bazaar apne ghar me.n le jaao
arey o zindagi ke Thekedaaron kuchh to sharmaao
uThaakar husn ka bazaar apne ghar me.n le jaao
sahara do
sahara do aur inko ma behen beti kehalwaao
sahara do
sahara do aur inko ma behen beti kehalwaao
ye afsaana nahii.nhai
ye afsaana nahii.naiye sunanewaalo dil ki baate.n hain
siyaahi gham ki hai waise badi rangeen raate.n hai
ye afsaana nahii.nhai