गाना / Title: खुदा-ए-बर्तर - khudaa-e-bartar

चित्रपट / Film: Taj Mahal

संगीतकार / Music Director: Roshan

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



खुदा-ए-बर्तर तेरी ज़मीं पर, ज़मीं की खातिर ये जंग क्यों है
हर एक फ़तह-ओ-ज़फ़र के दामन पे खून-ए-ईन्सां का रंग क्यों है
खुदा-ए-बर्तर ...

ज़मीं भी तेरी, हैं हम भी तेरे, ये मिल्कियत का सवाल क्या है
ये कत्ल-ओ-ख़ूँ का रिवाज़ क्यों है, ये रस्म-ए-जंग-ओ-जदाल क्या है
जिन्हे तलब है जहान भर की, उन्ही का दिल इतना तंग क्यों है
खुदा-ए-बर्तर ...

ग़रीब माँओ शरीफ़ बेहनों को अम्न-ओ-इज़्ज़त की ज़िंदगी दे
जिन्हे अता की है तू ने ताक़त, उन्हे हिदायत की रोशनी दे
सरों में किब्र-ओ-ग़ुरूर क्यों हैं, दिलों के शीशे पे ज़ंग क्यों है
खुदा-ए-बर्तर ...

ख़ज़ा के रस्ते पे जानेवालों को बच के आने की राह देना
दिलों के गुलशन उजड़ न जाए, मुहब्बतों को पनाह देना
जहाँ में जश्न-ए-वफ़ा के बदले, ये जश्न-ए-तीर-ओ-तफ़ंग क्यों है
खुदा-ए-बर्तर ...

खुदा-ए-बर्तर तेरी ज़मीं पर, ज़मीं की खातिर ये जंग क्यों है
हर एक फ़तह-ओ-ज़फ़र के दामन पे खून-ए-इन्सां का रंग क्यों है
खुदा-ए-बर्तर ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

khudaa-e-bartar terii zamii.n par, zamii.n kii khaatir ye ja.ng kyo.n hai
har ek fatah-o-zafar ke daaman pe khUn-e-iinsaa.n kaa ra.ng kyo.n hai
khudaa-e-bartar ...

zamii.n bhii terii, hai.n ham bhii tere, ye milkiyat kaa savaal kyaa hai
ye katl-o-Kuu.N kaa rivaaz kyo.n hai, ye rasm-e-ja.ng-o-jadaal kyaa hai
jinhe talab hai jahaan bhar kii, unhii kaa dil itanaa ta.ng kyo.n hai
khudaa-e-bartar ...

Gariib maa.No shariif behano.n ko amn-o-izzat kii zi.ndagii de
jinhe ataa kii hai tU ne taaqat, unhe hidaayat kii roshanii de
saro.n me.n kibr-o-Guruur kyo.n hai.n, dilo.n ke shiishe pe za.ng kyo.n hai
khudaa-e-bartar ...

Kazaa ke raste pe jaanevaalo.n ko bach ke aane kii raah denaa
dilo.n ke gulashan uja.D na jaae, muhabbato.n ko panaah denaa
jahaa.N me.n jashn-e-vafaa ke badale, ye jashn-e-tiir-o-tafa.ng kyo.n hai
khudaa-e-bartar ...

khudaa-e-bartar terii zamii.n par, zamii.n kii khaatir ye ja.ng kyo.n hai
har ek fatah-o-zafar ke daaman pe khUn-e-insaa.n kaa ra.ng kyo.n hai
khudaa-e-bartar ...