गाना / Title: हम दर्द के मारों का, इतना ही फ़साना है - ham dard ke maaro.n kaa, itanaa hii fasaanaa hai

चित्रपट / Film: Daag

संगीतकार / Music Director: शंकर - जयकिशन-(Shankar-Jaikishan)

गीतकार / Lyricist: हसरत-(Hasrat)

गायक / Singer(s): तलत महमूद-(Talat Mahmood)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



बुझ गये ग़म की हवा से, प्यार के जलते चराग
बेवफ़ाई चाँद ने की, पड़ गया इसमें भी दाग

हम ददर् के मारों का, इतना ही फ़साना है
पीने को शराब-ए-ग़म, दिल गम का निशाना है

(दिल एक खिलौना है, तक़दीर के हाथों में) - २
तकदीर के हाथों में
मरने की तमन्ना है, जीने का बहाना है
हम ददर् के मारों का, इतना ही फ़साना है

(देते हैं दुआएं हम) - २, (दुनिया की जफ़ाओं को)- २
क्यों उनको भुलाएं हम, अब खुद को भुलाना है
हम ददर् के मारों का, इतना ही फ़साना है

(हँस हँस के बहारें तो, शबनम को रुलाती हैं) - २
शबनम को रुलाती हैं
आज अपनी मुहब्बत पर, बगिया को रुलाना है
हम ददर् के मारों का, इतना ही फ़साना है



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

bujh gaye Gam kii havaa se, pyaar ke jalate charaag
bevafaa_ii chaa.Nd ne kii, pa.D gayaa isame.n bhii daag

ham dad.r ke maaro.n kaa, itanaa hii fasaanaa hai
piine ko sharaab-e-Gam, dil gam kaa nishaanaa hai

(dil ek khilaunaa hai, taqadiir ke haatho.n me.n) - 2
takadiir ke haatho.n me.n
marane kii tamannaa hai, jiine kaa bahaanaa hai
ham dad.r ke maaro.n kaa, itanaa hii fasaanaa hai

(dete hai.n duaae.n ham) - 2, (duniyaa kii jafaao.n ko)- 2
kyo.n unako bhulaae.n ham, ab khud ko bhulaanaa hai
ham dad.r ke maaro.n kaa, itanaa hii fasaanaa hai

(ha.Ns ha.Ns ke bahaare.n to, shabanam ko rulaatii hai.n) - 2
shabanam ko rulaatii hai.n
aaj apanii muhabbat par, bagiyaa ko rulaanaa hai
ham dad.r ke maaro.n kaa, itanaa hii fasaanaa hai