गाना / Title: ये पर्बतों के दायरे ये शाम का धुआँ - ye parbato.n ke daayare ye shaam kaa dhuaa.N

चित्रपट / Film: Vasna

संगीतकार / Music Director: चित्रगुप्त-(Chitragupt)

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          




ये पर्बतों के दायरे ये शाम का धुआँ
ऐसे में क्यों न छेड़ दें दिलों की दास्ताँ

ज़रा सी ज़ुल्फ़ खोल दो फ़िज़ा में इत्र घोल दो
नज़र जो बात कह चुकी वो बात मुँह से बोल दो
कि झूम उठे निगाह में बहार का समाँ
ये पर्बतों के दायरे ...

ये चुप भी एक सवाल है अजीब दिल का हाल है
हर इक ख़याल खो गया बस अब यही ख़याल है
कि फ़ासला न कुछ रहे हमारे दर्मियाँ
ये पर्बतों के दायरे ...

ये रूप रंग ये फबन चमक्ते चाँद सा बदन
बुरा न मानो तुम अगर तो चूम लूँ किरण किरण
कि आज हौसलों में है बला की गर्मियाँ
ये पर्बतों के दायरे ...




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      


ye parbato.n ke daayare ye shaam kaa dhuaa.N
aise me.n kyo.n na chhe.D de.n dilo.n kii daastaa.N

zaraa sii zulf khol do fizaa me.n itr ghol do
nazar jo baat kah chukii vo baat mu.Nh se bol do
ki jhuum uThe nigaah me.n bahaar kaa samaa.N
ye parbato.n ke daayare ...

ye chup bhii ek savaal hai ajiib dil kaa haal hai
har ik Kayaal kho gayaa bas ab yahii Kayaal hai
ki faasalaa na kuchh rahe hamaare darmiyaa.N
ye parbato.n ke daayare ...

ye ruup ra.ng ye phaban chamakte chaa.Nd saa badan
buraa na maano tum agar to chuum luu.N kiraN kiraN
ki aaj hausalo.n me.n hai balaa kii garmiyaa.N
ye parbato.n ke daayare ...