गाना / Title: एक अकेला इस शहर में, रात में और दोपहर में - ek akelaa is shahar me.n, raat me.n aur dopahar me.n

चित्रपट / Film: घरोंदा-(Gharonda)

संगीतकार / Music Director: Jaidev

गीतकार / Lyricist: गुलजार-(Gulzar)

गायक / Singer(s): Bhupinder

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



एक अकेला इस शहर में, रात में और दोपहर में
आब-ओ-दाना ढूँढता है, आशियाना ढूँढता है

दिन खाली खाली बर्तन है, और रात है जैसे अंधा कुँवा
इन सूनी अन्धेरी आँखों में, आँसू की जगह आता हैं धुँ_आ
जीने की वजह तो कोई नहीं, मरने का बहाना ढूँढता है
एक अकेला इस शेहर में

इन उम्र से लम्बी सड़कों को, मन्ज़िल पे पहुँचते देखा नहीं
बस दौड़ती फिरती रहती हैं, हम ने तो ठहरते देखा नहीं
इस अजनबी से शेहर में, जाना पहचाना ढूँढता है
एक अकेला इस शेहर में



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

ek akelaa is shahar me.n, raat me.n aur dopahar me.n
aab-o-daanaa Dhuu.NDhataa hai, aashiyaanaa Dhuu.NDhataa hai

din khaalii khaalii bartan hai, aur raat hai jaise a.ndhaa ku.Nvaa
in suunii andherii aa.Nkho.n me.n, aa.NsU kii jagah aataa hai.n dhu.N_aa
jiine kii vajah to ko_ii nahii.n, marane kaa bahaanaa Dhuu.NDhataa hai
ek akelaa is shehar me.n

in umr se lambii sa.Dako.n ko, manzil pe pahu.Nchate dekhaa nahii.n
bas dau.Datii phiratii rahatii hai.n, ham ne to Thaharate dekhaa nahii.n
is ajanabii se shehar me.n, jaanaa pahachaanaa Dhuu.NDhataa hai
ek akelaa is shehar me.n