गाना / Title: चाँदी का बदन सोने की नज़र - chaa.Ndii kaa badan sone kii nazar

चित्रपट / Film: Taj Mahal

संगीतकार / Music Director: Roshan

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)आशा भोसले-(Asha)Meena KapoorManna Dechorus

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          




ंअले:
चाँदी का बदन सोने की नज़र
उस पर ये नज़ाकत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
किस किस पे तुम्हारे जल्वों ने
तोड़ी है क़यामत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
चाँदी का बदन सोने की नज़र

Fएमले:
गुस्ताख़्ह ज़ुबाँ गुस्ताख़्ह नज़र
ये रंग-ए-तबियत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
ऐसे भी कहीं इस दुनिया में
होती है मुहब्बत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
ग़ुस्ताख़्ह ज़ुबाँ गुस्ताख़्ह नज़र

ंअले:
आँचल की धनक के साये में
ये फूल गुलाबी चेहरों के
ये फूल गुलाबी हाये गुलाबी चेहरों के
इस वक़्त हमारी नज़रों में
क्या चीज़ है जन्नत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
इस वक़्त हमारी नज़रों में

तुमसे नज़रें जो मिलीं
दीन-ओ-दुनिया से गये
इक तमन्ना के सिवा
हर तमन्ना से गये
मस्त आँखों से जो पी
जाम-ओ-मीना से गये
ज़ुल्फ़ लहराई जहाँ
हम भी लहरा से गये
हूरें मिलती हैं किसे
इस की परवाह से गये
इस की परवाह से, परवाह से, परवाह से गये

इस वक़्त हमारी नज़रों में
क्या चीज़ है जन्नत क्या कहिये
एजी क्या कहिये
चाँदी का बदन सोने की नज़र

Fएमले:
यूँ गर्म निगाहें मत डालो
ये जिस्म पिघल भी पिघल भी सकते हैं
ये जिस्म पिघल भी सकते हैं
उड़े न कहीं रूप की शबनम *
गर्म निगाहें डालो कम-कम *
आदाब-ए-नज़ारा भूले हो - २
तुम लोगों की वहशत क्या कहिये
एजी क्या कहिये

तुम हमें जीत सको
इस का इम्कान नहीं
ख़्हुद को बदनाम करें
हम वो नादाँ नहीं
कोई मरता है मरे
हम पे एहसान नहीं
उन से क्यूँ बात करें
जिन से पहचान नहीं
तुम को अरमाँ है तो है
हम को अरमान नहीं
हम को अरमान के अरमान के अरमान नहीं
आदाब-ए-नज़ारा भूले हो
तुम लोगों की वहशत क्या कहिये
एजी क्या कहिये

गुस्ताख़्ह ज़ुबाँ गुस्ताख़्ह नज़र

ंअले:
जिन लोगों को तुम ठुकरा के चलो *
वो लोग भी क़िस्मत वाले हैं *
तुम जिस की तमन्ना कर बैठो *
उन लोगों की क़िस्मत क्या कहिये *
एजी क्या कहिये

ये जवानी ये अदा **
क्यों न मग़रूर हो तुम **
फ़र्श पर उतरी हुई **
अर्श की हूर हो तुम **
शोख़्ह जल्वों की क़सम **
शोला-ए-तूर हो तुम **
कोई देखे तो कहे **
नशे में चूर हो तुम **

तुम जिस की तमन्ना कर बैठो *
उन लोगों की क़िस्मत क्या कहिये *
एजी क्या कहिये

चाँदी का बदन सोने की नज़र

Fएमले:
दिन रात दुहाई देते हैं
ये हाल है इन दीवानों का
जहाँ देखी नई सूरत मचल बैठे
यही, यही, यही लेंगे
ये हाल है इन दीवानों का दीवानों का

ंअले:
जिन की ख़्हातिर ग़म सहें और रो-रो जाँ गवायेँ
हाय री क़िस्मत उंहीं के मूँह से दीवाने कहलायेँ

Fएमले:
इन आशिक़ों के हाथ है
ऐ ज़िंदगी बवाल
इन का करें ख़्हयाल के
अपना करें ख़्हयाल
हर लब अर्ज़-ए-शौक़ तो
हर आँख है सवाल
ये ग़म से बेक़रार है
वो दर्द से निढाल

अरेय ये हाल है इन दीवानों का
ये हाल है इन दीवानों का

ंअले:
मेरी नींद गई मेरा चैन गया
वो जो पहले थी ताब-ओ-तबान गई
यही रंग रहा यही ढंग रहा
तो ये जान लो जान की जान गई

ये हाल है इन दीवानों का - २

Fएमले:
किसी को ख़्हुद-ख़्हुशी का, शौक़ हो तो, क्या करे कोई

ंअले:
दवा-ए-हिज्र दे, बीमार को, अच्छा करे कोई

Fएमले:
कोई बेवजह सर फोड़े तो क्यों परवाह करे कोई

ंअले:
किसी मजबूर-ए-ग़म का हाल क्यों ऐसा करे कोई

Fएमले:
मज़ा तो है के जब तुम,
तुम तड़पा करो,
देखा करे कोई

ंअले:
मरें हम और तुम पर,
के तुम पर ख़्हून का
दावा करे कोई

हाँ, दावा करे कोई

ये हाल है इन दीवानों का, दीवानों का

Fएमले:
जीते भी नहीं मरते भी नहीं
बेचारों की हालत क्या कहिये
एजी क्या कहिये

चाँदी का बदन सोने की नज़र




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      


Male:
chaa.Ndii kaa badan sone kii nazar
us par ye nazaakat kyaa kahiye
ejii kyaa kahiye
kis kis pe tumhaare jalvo.n ne
to.Dii hai qayaamat kyaa kahiye
ejii kyaa kahiye
chaa.Ndii kaa badan sone kii nazar

Female:
gustaaKh zubaa.N gustaaKh nazar
ye ra.ng-e-tabiyat kyaa kahiye
ejii kyaa kahiye
aise bhii kahii.n is duniyaa me.n
hotii hai muhabbat kyaa kahiye
ejii kyaa kahiye
GustaaKh zubaa.N gustaaKh nazar

Male:
aa.Nchal kii dhanak ke saaye me.n
ye phuul gulaabii cheharo.n ke
ye phuul gulaabii haaye gulaabii cheharo.n ke
is vaqt hamaarii nazaro.n me.n
kyaa chiiz hai jannat kyaa kahiye
ejii kyaa kahiye
is vaqt hamaarii nazaro.n me.n

tumase nazare.n jo milii.n
diin-o-duniyaa se gaye
ik tamannaa ke sivaa
har tamannaa se gaye
mast aa.Nkho.n se jo pii
jaam-o-miinaa se gaye
zulf laharaa_ii jahaa.N
ham bhii laharaa se gaye
huure.n milatii hai.n kise
is kii paravaah se gaye
is kii paravaah se, paravaah se, paravaah se gaye

is vaqt hamaarii nazaro.n me.n
kyaa chiiz hai jannat kyaa kahiye
ejii kyaa kahiye
chaa.Ndii kaa badan sone kii nazar

Female:
yuu.N garm nigaahe.n mat Daalo
ye jism pighal bhii pighal bhii sakate hai.n
ye jism pighal bhii sakate hai.n
u.De na kahii.n ruup kii shabanam *
garm nigaahe.n Daalo kam-kam *
aadaab-e-nazaaraa bhuule ho - 2
tum logo.n kii vahashat kyaa kahiye
ejii kyaa kahiye

tum hame.n jiit sako
is kaa imkaan nahii.n
Khud ko badanaam kare.n
ham vo naadaa.N nahii.n
ko_ii marataa hai mare
ham pe ehasaan nahii.n
un se kyuu.N baat kare.n
jin se pahachaan nahii.n
tum ko aramaa.N hai to hai
ham ko aramaan nahii.n
ham ko aramaan ke aramaan ke aramaan nahii.n
aadaab-e-nazaaraa bhuule ho
tum logo.n kii vahashat kyaa kahiye
ejii kyaa kahiye

gustaaKh zubaa.N gustaaKh nazar

Male:
jin logo.n ko tum Thukaraa ke chalo *
vo log bhii qismat vaale hai.n *
tum jis kii tamannaa kar baiTho *
un logo.n kii qismat kyaa kahiye *
ejii kyaa kahiye

ye javaanii ye adaa **
kyo.n na maGaruur ho tum **
farsh par utarii hu_ii **
arsh kii huur ho tum **
shoKh jalvo.n kii qasam **
sholaa-e-tuur ho tum **
ko_ii dekhe to kahe **
nashe me.n chuur ho tum **

tum jis kii tamannaa kar baiTho *
un logo.n kii qismat kyaa kahiye *
ejii kyaa kahiye

chaa.Ndii kaa badan sone kii nazar

Female:
din raat duhaa_ii dete hai.n
ye haal hai in diivaano.n kaa
jahaa.N dekhii na_ii suurat machal baiThe
yahii, yahii, yahii le.nge
ye haal hai in diivaano.n kaa diivaano.n kaa

Male:
jin kii Khaatir Gam sahe.n aur ro-ro jaa.N gavaaye.N
haay rii qismat u.nhii.n ke muu.Nh se diivaane kahalaaye.N

Female:
in aashiqo.n ke haath hai
ai zi.ndagii bavaal
in kaa kare.n Khayaal ke
apanaa kare.n Khayaal
har lab arz-e-shauq to
har aa.Nkh hai savaal
ye Gam se beqaraar hai
vo dard se niDhaal

arey ye haal hai in diivaano.n kaa
ye haal hai in diivaano.n kaa

Male:
merii nii.nd ga_ii meraa chain gayaa
vo jo pahale thii taab-o-tabaan ga_ii
yahii ra.ng rahaa yahii Dha.ng rahaa
to ye jaan lo jaan kii jaan ga_ii

ye haal hai in diivaano.n kaa - 2

Female:
kisii ko Khud-Khushii kaa, shauq ho to, kyaa kare ko_ii

Male:
davaa-e-hijr de, biimaar ko, achchhaa kare ko_ii

Female:
ko_ii bevajah sar pho.De to kyo.n paravaah kare ko_ii

Male:
kisii majabuur-e-Gam kaa haal kyo.n aisaa kare ko_ii

Female:
mazaa to hai ke jab tum,
tum ta.Dapaa karo,
dekhaa kare ko_ii

Male:
mare.n ham aur tum par,
ke tum par Khuun kaa
daavaa kare ko_ii

haa.N, daavaa kare ko_ii

ye haal hai in diivaano.n kaa, diivaano.n kaa

Female:
jiite bhii nahii.n marate bhii nahii.n
bechaaro.n kii haalat kyaa kahiye
ejii kyaa kahiye

chaa.Ndii kaa badan sone kii nazar