गाना / Title: इलाही क्या ये शब-ए-ग़म है उम्र भर के लिये mukesh gazal - ilaahii kyaa ye shab-e-Gam hai umr bhar ke liye ##mukesh gazal ##

चित्रपट / Film: non-Film

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist:

गायक / Singer(s): मुकेश-(Mukesh)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



इलाही क्या ये शब-ए-ग़म है उम्र भर के लिये
मैं कबसे जाग रहा हूँ बस एक सहर के लिये

दिल अगर उनके दीदार को तरसता है
उन्ही के ग़म में लहू आँख से बरसता है
शरीक़-ए-हाल बने थे जो उम्र भर के लिये
मैं कबसे जाग रहा हूँ बस एक सहर के लिये

मेरे ही दम से थी आबाद रहगुज़र उनकी
मेरी तरफ़ नहीं उठती है अब नज़र उनकी
जहाँ को छोड़ दिया जिनकी रहगुज़र के लिये
मैं कबसे जाग रहा हूँ बस एक सहर के लिये

ये इल्तिजा है कि अब उम्र मुख्तसर करदे
मैं जिसकी रात ना देखूँ वोही सहर करदे
इलाही क्य ये शब-ए-ग़म है उम्र भर के लिये
मैं कबसे जाग रहा हूँ बस एक सहर के लिये



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

ilaahii kyaa ye shab-e-Gam hai umr bhar ke liye
mai.n kabase jaag rahaa huu.N bas ek sahar ke liye

dil agar unake dIdaar ko tarasataa hai
unhii ke Gam me.n lahU aa.Nkh se barasataa hai
shariiq-e-haal bane the jo umr bhar ke liye
mai.n kabase jaag rahaa huu.N bas ek sahar ke liye

mere hii dam se thii aabaad rahaguzar unakii
merii taraf nahii.n uThatii hai ab nazar unakii
jahaa.N ko chho.D diyaa jinakii rahaguzar ke liye
mai.n kabase jaag rahaa huu.N bas ek sahar ke liye

ye iltijaa hai ki ab umr mukhtasar karade
mai.n jisakii raat naa dekhuu.N vohii sahar karade
ilaahii kya ye shab-e-Gam hai umr bhar ke liye
mai.n kabase jaag rahaa huu.N bas ek sahar ke liye