गाना / Title: संदेसे आते हैं - Sandese Aate Hain (Border)

चित्रपट / Film: बॉर्डर-(Border)

संगीतकार / Music Director: अन्नु मलिक-(Anu Malik)

गीतकार / Lyricist: जावेद अख्तर-(Javed Akhtar)

गायक / Singer(s): Roop Kumar Rathodसोनु निगम-(Sonu Nigam)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
संदेसे आते हैं हमें तड़पाते हैं
जो चिट्ठी आती है वो पूछे जाती है
के घर कब आओगे लिखो कब आओगे
के तुम बिन ये घर सूना सूना है

किसी दिलवाली ने, किसी मतवाली ने
हमें खत लिखा है, ये हमसे पूछा है
किसी की साँसों ने, किसी की धड़कन ने
किसी की चूड़ी ने, किसी के कंगन ने
किसी के कजरे ने, किसी के गजरे ने
महकती सुबहों ने, मचलती शामों ने
अकेली रातों में, अधूरी बातों ने
तरसती बाहों ने और पूछा है तरसी निगाहों ने
के घर कब आओगे लिखो कब आओगे
के तुम बिन ये घर सूना सूना है
संदेसे आते हैं ...

मोहब्बतवालों ने, हमारे यारों ने
हमें ये लिखा है कि हमसे पूछा है
हमारे गाँवों ने, आम की छांवों ने
पुराने पीपल ने, बरसते बादल ने
खेत खलियानों ने, हरे मैदानों ने
बसंती मेलों ने, झूमती बेलों ने
लचकते झूलों ने, दहकते फूलों ने
चटकती कलियों ने और पूछा है गाँव की गलियों ने
के घर कब आओगे लिखो कब आओगे
के तुम बिन गाँव सूना सूना है
संदेसे आते हैं ...

कभी एक ममता की, प्यार की गंगा की
जो चिट्ठी आती है, साथ वो लाती है
मेरे दिन बचपन के, खेल वो आंगन के
वो साया आंचल का, वो टीका काजल का
वो लोरी रातों में, वो नरमी हाथों में
वो चाहत आँखों में, वो चिंता बातों में
बिगड़ना ऊपर से, मोहब्बत अंदर से करे वो देवी माँ 
यही हर खत में पूछे मेरी माँ
के घर कब आओगे लिखो कब आओगे
के तुम बिन आँगन सूना सूना है

ऐ गुजरने वाली हवा बता
मेरा इतना काम करेगी क्या
मेरे गाँव जा, मेरे दोस्तों को सलाम दे
मेरे गाँव में है जो वो गली
जहाँ रहती है मेरी दिलरुबा
उसे मेरे प्यार का जाम दे

वहीं थोड़ी दूर है घर मेरा
मेरे घर में है मेरी बूढ़ी माँ
मेरी माँ के पैरों को छूँ के तू उसे उसके बेटे का नाम दे
ऐ गुजरनेवाली हवा ज़रा
मेरे दोस्तों मेरी दिलरुबा मेरी माँ को मेरा पयाम दे
उन्हें जा के तू ये पयाम दे

मैं वापस आऊंगा फिर अपने गाँव में
उसी की छांव में, के माँ के आँचल से
गाँव की पीपल से किसी के काजल से
किया जो वादा था वो निभाऊंगा
मैं एक दिन आऊंगा

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
Sandese ate hain hamen tadpaate hain
Jo chitthhi ati hai wo puchhe jaati hai
Ke ghar kab aoge likho kab aoge
Ke tum bin ye ghar suna suna hai

Kisi dilawaali ne, kisi matawaali ne
Hamen khat likha hai, ye hamase puchha hai
Kisi ki saanson ne, kisi ki dhadkan ne
Kisi ki chudi ne, kisi ke kngan ne
Kisi ke kajare ne, kisi ke gajare ne
Mahakati subahon ne, machalati shaamon ne
Akeli raaton men, adhuri baaton ne
Tarasati baahon ne aur puchha hai tarasi nigaahon ne
Ke ghar kab aoge likho kab aoge
Ke tum bin ye ghar suna suna hai
Sandese ate hain ...

Mohabbatawaalon ne, hamaare yaaron ne
Hamen ye likha hai ki hamase puchha hai
Hamaare gaanwon ne, am ki chhaanwon ne
Puraane pipal ne, barasate baadal ne
Khet khaliyaanon ne, hare maidaanon ne
Basnti melon ne, jhumati belon ne
Lachakate jhulon ne, dahakate fulon ne
Chatakati kaliyon ne aur puchha hai gaanw ki galiyon ne
Ke ghar kab aoge likho kab aoge
Ke tum bin gaanw suna suna hai
Sandese ate hain ...

Kabhi ek mamata ki, pyaar ki gnga ki
Jo chitthhi ati hai, saath wo laati hai
Mere din bachapan ke, khel wo angan ke
Wo saaya anchal ka, wo tika kaajal ka
Wo lori raaton men, wo narami haathon men
Wo chaahat ankhon men, wo chinta baaton men
Bigadna upar se, mohabbat andar se kare wo dewi maan 
Yahi har khat men puchhe meri maan
Ke ghar kab aoge likho kab aoge
Ke tum bin angan suna suna hai

Ai gujarane waali hawa bata
Mera itana kaam karegi kya
Mere gaanw ja, mere doston ko salaam de
Mere gaanw men hai jo wo gali
Jahaan rahati hai meri dilaruba
Use mere pyaar ka jaam de

Wahin thodi dur hai ghar mera
Mere ghar men hai meri budhi maan
Meri maan ke pairon ko chhun ke tu use usake bete ka naam de
Ai gujaranewaali hawa jra
Mere doston meri dilaruba meri maan ko mera payaam de
Unhen ja ke tu ye payaam de

Main waapas aunga fir apane gaanw men
Usi ki chhaanw men, ke maan ke anchal se
Gaanw ki pipal se kisi ke kaajal se
Kiya jo waada tha wo nibhaaunga
Main ek din aunga

Related content: