गाना / Title: मौला शब-ए-ग़म - maulaa shab-e-Gam

चित्रपट / Film: non-Film

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: मजरूह सुलतान पुरी-(Majrooh)

गायक / Singer(s):

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



मौला शब-ए-ग़म सुबहों की मेहरम तो नहीं है
सूरज से तेरा रँग-ए-हिना कम तो नहीं है

कुछ ज़ख़्म ही खाएं चलो कुछ गुल हि खिलाएं
हर चाँद बहारों का यह मौसम तो नहीं है

चाहे अब कारगाह-ए-दहर में लगता है बहुत दिल
ऐ दोस्त कहीं यह भी तेरा ग़म तो नहीं है

चाहे वह किसी का हो लहू दामन-ए-गुल पर
सय्याद यह कल रात की शबनम तो नहीं है

इतनी भी हमें बंदिश-ए-ग़म कब थी गँवारा
पर्दे में तेरी कागुल-ए-पुर्ख़म तो नहीं है

सेहरा में बगूला भी है `मजरूह' सबा भी
हमसा कोई आवारा-ए-आलम तो नहीं है



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

maulaa shab-e-Gam subaho.n kii meharam to nahii.n hai
suuraj se teraa ra.Ng-e-hinaa kam to nahii.n hai

kuchh zaKm hii khaae.n chalo kuchh gul hi khilaae.n
har chaa.Nd bahaaro.n kaa yah mausam to nahii.n hai

chaahe ab kaaragaah-e-dahar me.n lagataa hai bahut dil
ai dost kahii.n yah bhii teraa Gam to nahii.n hai

chaahe vah kisii kaa ho lahuu daaman-e-gul par
sayyaad yah kal raat kii shabanam to nahii.n hai

itanii bhii hame.n ba.ndish-e-Gam kab thii ga.Nvaaraa
parde me.n terii kaagul-e-purKam to nahii.n hai

seharaa me.n baguulaa bhii hai `majaruuh' sabaa bhii
hamasaa koii aavaaraa-e-aalam to nahii.n hai