गाना / Title: हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने - hame.n to luuT liyaa mil ke husn vaalo.n ne

चित्रपट / Film: Al Hilal

संगीतकार / Music Director: Bulo C Rani

गीतकार / Lyricist: Shevan Rizvi

गायक / Singer(s): Ismail Azad Qawwalchorus

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



(हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
 काले-काले बालों ने, गोरे-गोरे गालों ने)        -२

नज़र में शोख़ियाँ और बचपना शरारत में
अदाएं देखके हम फंस गए मोहब्बत में
हम अपनी जान से जाएंगे जिनकी उल्फ़त में
यकीन है कि न आएंगे वो ही मैय्यत में
तो हम भी कह देंगे, हम लुट गए, शराफ़त में

(हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
 काले-काले बालों ने, गोरे-गोरे गालों ने)        -२

वहीं-वहीं पे क़यामत हो वो जिधर जाएं
झुकी-झुकी हुई नज़रों से काम कर जाएं
तड़पता छोड़ दें रस्ते में और गुज़र जाएं
सितम तो ये है कि दिल ले लें और मुकर जाएं
समझ में कुछ नहीं आता कि हम दिखर जाएं
यही इरादा है ये कहके हम तो मर जाएं

(हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
 काले-काले बालों ने, गोरे-गोरे गालों ने)        -२

वफ़ा के नाम पे मारा है बेवफ़ाओं ने
कि दम भी हम को न लेने दिया जफ़ाओं ने
ख़ुदा भुला दिया इन हुस्न के ख़ुदाओं ने
मिटा के छोड़ दिया इश्क़ की ख़ताओं ने
उड़ाए होश कभी ज़ुल्फ़ की हवां ने
हया-ए-नाज़ ने लूटा कभी अदाओं ने

(हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
 काले-काले बालों ने, गोरे-गोरे गालों ने)        -२

हज़ार लुट गए नज़रों के इक इशारे पर
हज़ारों बह गए तूफ़ान बनके धारे पर
न इनके वादों का कुछ ठीक है न बातों का
फ़साना होता है इनका हज़ार रातों का
बहुत हसीं है वैसे तो भोलपन इनका
भरा हुआ है मगर ज़हर से बदन इनका
ये जिसको काट लें पानी वो पी नहीं सकता
दवा तो क्या है दुआ से भी जी नहीं सकता
इन्हीं के मारे हुए हम भी हैं ज़माने में
है चार लफ़्ज़ मोहब्बत के इस फ़साने में

(हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
 काले-काले बालों ने, गोरे-गोरे गालों ने)        -२

ज़माना इनको समझत है नेक्वार मासूम
मगर ये कहते हैं क्या है किसीको क्या मालूम
इन्हें न तीर न तल्वार की ज़रूरत है
शिकार करने को काफ़ी निगाहें उल्फ़त हैं
हसीन चाल से दिल पयमल करते हैं
नज़र से करते हैं बातें कमाल करते हैं
हर एक बात में मतलब हज़ार होते हैं
ये सीधे-सादे बड़े होशियार होते हैं
ख़ुदा बचाए हसीनों की तेज़ चालों से
पड़े किसी का भी पल्ला न हुस्न वालों से

(हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
 काले-काले बालों ने, गोरे-गोरे गालों ने)        -२

हुस्न वालों में मोहब्बत की कमी होती है
चाहने वालों की तक़दीर बुरी होती है
इनकी बातों में बनावट ही बनावट देखी
शर्म आँखों में निगाहों में लगावट देखी
आग पहले तो मोहब्बत की लगा देते हैं
अपनी रुख़सार का दीवाना बना देते हैं
दोस्ती कर के फिर अंजान नज़र आते हैं
सच तो ये है कि बेईमान नज़र आते हैं
मौतें कम नहीं दुनिया में मुहब्बत इनकी (???)
ज़िंदगी होती बरबाद बदौलत इनकी
दिन बहारों के गुज़रते हैं मगर मर-मर के
लुट गए हम तो हसीनों पे भरोसा कर के

(हमें तो लूट लिया मिल के हुस्न वालों ने
 काले-काले बालों ने, गोरे-गोरे गालों ने)        -२



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

(hame.n to luuT liyaa mil ke husna vaalo.n ne
 kaale-kaale baalo.n ne, gore-gore gaalo.n ne)        -2

nazar me.n shoKiyaa.N aur bachapanaa sharaarat me.n
adaae.n dekhake ham pha.ns ga_e mohabbat me.n
ham apanii jaan se jaae.nge jinakii ulfat me.n
yakiin hai ki na aae.nge vo hii maiyyat me.n
to ham bhii kah de.nge, ham luT ga_e, sharaafat me.n

(hame.n to luuT liyaa mil ke husna vaalo.n ne
 kaale-kaale baalo.n ne, gore-gore gaalo.n ne)        -2

vahii.n-vahii.n pe qayaamat ho vo jidhar jaae.n
jhukii-jhukii huii nazaro.n se kaam kar jaae.n
ta.Dapataa chho.D de.n raste me.n aur guzar jaae.n
sitam to ye hai ki dil le le.n aur mukar jaae.n
samajh me.n kuchh nahii.n aataa ki ham dikhar jaae.n
yahii iraadaa hai ye kahake ham to mar jaae.n

(hame.n to luuT liyaa mil ke husna vaalo.n ne
 kaale-kaale baalo.n ne, gore-gore gaalo.n ne)        -2

vafaa ke naam pe maaraa hai bevafaao.n ne
ki dam bhii ham ko na lene diyaa jafaao.n ne
Kudaa bhulaa diyaa in husn ke Kudaao.n ne
miTaa ke chho.D diyaa ishq kii Kataao.n ne
u.Daae hosh kabhii zulf kii havaa.n ne
hayaa-e-naaz ne luuTaa kabhii adaao.n ne

(hame.n to luuT liyaa mil ke husna vaalo.n ne
 kaale-kaale baalo.n ne, gore-gore gaalo.n ne)        -2

hazaar luT ga_e nazaro.n ke ik ishaare par
hazaaro.n bah ga_e tuufaan banake dhaare par
na inake vaado.n kaa kuchh Thiik hai na baato.n kaa
fasaanaa hotaa hai inakaa hazaar raato.n kaa
bahut hasii.n hai vaise to bholapan inakaa
bharaa huaa hai magar zahar se badan inakaa
ye jisako kaaT le.n paanii vo pii nahii.n sakataa
davaa to kyaa hai duaa se bhii jii nahii.n sakataa
inhii.n ke maare hu_e ham bhii hai.n zamaane me.n
hai chaar lafz mohabbat ke is fasaane me.n

(hame.n to luuT liyaa mil ke husna vaalo.n ne
 kaale-kaale baalo.n ne, gore-gore gaalo.n ne)        -2

zamaanaa inako samajhata hai nek.h_vaar maasuum
magar ye kahate hai.n kyaa hai kisiiko kyaa maaluum
inhe.n na tiir na talvaar kii zaruurat hai
shikaar karane ko kaafii nigaahe.n ulfat hai.n
hasiin chaal se dil payamal karate hai.n
nazar se karate hai.n baate.n kamaal karate hai.n
har ek baat me.n matalab hazaar hote hai.n
ye siidhe-saade ba.De hoshiyaar hote hai.n
Kudaa bachaae hasiino.n kii tez chaalo.n se
pa.De kisii kaa bhii pallaa na husna vaalo.n se

(hame.n to luuT liyaa mil ke husna vaalo.n ne
 kaale-kaale baalo.n ne, gore-gore gaalo.n ne)        -2

husna vaalo.n me.n mohabbat kii kamii hotii hai
chaahane vaalo.n kii taqadiir burii hotii hai
inakii baato.n me.n banaavaT hii banaavaT dekhii
sharm aa.Nkho.n me.n nigaaho.n me.n lagaavaT dekhii
aag pahale to mohabbat kii lagaa dete hai.n
apanii ruKasaar kaa diivaanaa banaa dete hai.n
dostii kar ke phir a.njaan nazar aate hai.n
sach to ye hai ki be_iimaan nazar aate hai.n
maute.n kam nahii.n duniyaa me.n muhabbat inakii (???)
zi.ndagii hotii barabaad badaulat inakii
din bahaaro.n ke guzarate hai.n magar mar-mar ke
luT ga_e ham to hasiino.n pe bharosaa kar ke

(hame.n to luuT liyaa mil ke husna vaalo.n ne
 kaale-kaale baalo.n ne, gore-gore gaalo.n ne)        -2