गाना / Title: गये दिनों का सुराग़ लेकर किधर से आया किधर गया वो - gaye dino.n kaa suraaG lekar kidhar se aayaa kidhar gayaa wo

चित्रपट / Film: Meraj-E-Ghazal (Non-Film)

संगीतकार / Music Director: Ghulam Ali

गीतकार / Lyricist: Nasir Kazmi

गायक / Singer(s): Ghulam Aliआशा भोसले-(Asha)Ghulam Ali

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          





गये दिनों का सुराग़ लेकर किधर से आया किधर गया वो
अजीब मानूस अजनबी था मुझे तो हैरान कर गया वो

वो हिज्र की रात का सितारा वो हम\-नफ़स हम\-सुख़न हमारा
सदा रहे उसका नाम प्यारा सुना है कल रात मर गया वो

वो रात का बे\-नवा मुसाफ़िर वो तेरा शाइर वो तेरा 'नासिर'
तेरी गली तक तो हमने देखा था फिर न जाने किधर गया वो



बस एक मोती सी छब दिखाकर बस एक मीठी सी धुन सुनाकर
सितारा\-ए\-शाम बन के आया ब\-रंग\-ए\-ख़ाब\-ए\-सहर गया वो

ख़ुशी की रात हो या ग़म का मौसम नज़र उसे ढूँढती है हरदम
वो बू\-ए\-गुल था कि नग़्मा\-ए\-जाँ मेरे तो दिल में उतर गया वो

न अब वो यादों का चढ़ता दरिया न फ़ुर्सतों की है ओस बरखा
यूँही ज़रा सी कसक है दिल में जो ज़ख़्म गहरा था भर गया वो

कुछ अब सम्भलने लगी है जाँ भी बदल चला दौर\-ए\-आसमाँ भी
जो रात भारी थी टल गई है जो दिन कड़ा था गुज़र गया वो

बस एक मंज़िल है बुल\-हवस की हज़ार रस्ते हैं अहल\-ए\-दिल के
यही तो है फ़र्क़ मुझमें उसमें गुज़र गया मैं ठहर गया वो

शिकस्ता\-पा राह में खड़ा हूँ गये दिनों को भूलता हूँ
जो क़ाफ़िला मेरा हमसफ़र था मिसाल\-ए\-गर्द\-ए\-सफ़र गया वो

मेरा तो ख़ूँ हो गया है पानी सितमगरों की पलक न भीगी
जो नाला उट्ठा था रात दिल से न जाने क्यूँ बे\-असर गया वो

वो मयकदे को जगाने वाला वो रात की नींद उड़ाने वाला
ये आज क्या उसके जी में आई कि शाम होते ही घर गया वो

वो जिसके शाने पे हाथ रख कर सफ़र किया तूने मंज़िलों का
तेरी गली से न जाने क्यूँ आज सर झुकाये गुज़र गया वो



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      



gaye dino.n kaa suraaG lekar kidhar se aayaa kidhar gayaa wo
ajiib maanuus ajanabii thaa mujhe to hairaan kar gayaa wo

wo hijr kii raat kaa sitaaraa wo ham\-nafas ham\-suKan hamaaraa
sadaa rahe usakaa naam pyaaraa sunaa hai kal raat mar gayaa wo

wo raat kaa be\-navaa musaafir wo teraa shaa_ir wo teraa 'naasir'
terii galii tak to hamane dekhaa thaa phir na jaane kidhar gayaa wo



bas ek motii sii chhab dikhaakar bas ek miiThii sii dhun sunaakar
sitaaraa\-e\-shaam ban ke aayaa ba\-ra.ng\-e\-Kaab\-e\-sahar gayaa wo

Kushii kii raat ho yaa Gam kaa mausam nazar use Dhuu.NDhatii hai haradam
wo buu\-e\-gul thaa ki naGmaa\-e\-jaa.N mere to dil me.n utar gayaa wo

na ab wo yaado.n kaa cha.Dhataa dariyaa na fursato.n kii hai os barakhaa
yuu.Nhii zaraa sii kasak hai dil me.n jo zaKm gaharaa thaa bhar gayaa wo

kuchh ab sambhalane lagii hai jaa.N bhii badal chalaa daur\-e\-aasamaa.N bhii
jo raat bhaarii thii Tal ga_ii hai jo din ka.Daa thaa guzar gayaa wo

bas ek ma.nzil hai bul\-hawas kii hazaar raste hai.n ahal\-e\-dil ke
yahii to hai farq mujhame.n usame.n guzar gayaa mai.n Thahar gayaa wo

shikastaa\-paa raah me.n kha.Daa huu.N gaye dino.n ko bhuulataa huu.N
jo qaafilaa meraa hamasafar thaa misaal\-e\-gard\-e\-safar gayaa wo

meraa to Kuu.N ho gayaa hai paanii sitamagaro.n kii palak na bhiigii
jo naalaa uTThaa thaa raat dil se na jaane kyuu.N be\-asar gayaa wo

wo mayakade ko jagaane waalaa wo raat kii nii.nd u.Daane waalaa
ye aaj kyaa usake jii me.n aa_ii ki shaam hote hii ghar gayaa wo

wo jisake shaane pe haath rakh kar safar kiyaa tuune ma.nzilo.n kaa
terii galii se na jaane kyuu.N aaj sar jhukaaye guzar gayaa wo