गाना / Title: है अगर दुश्मन ... हम किसी से कम नहीं - hai agar dushman ... ham kisii se kam nahii.n

चित्रपट / Film: Hum Kisi Se Kam Nahin

संगीतकार / Music Director: राहुलदेव बर्मन-(R D Burman)

गीतकार / Lyricist: मजरूह सुलतान पुरी-(Majrooh)

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)आशा भोसले-(Asha)Chorus

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



र:	आऽ
	है अगर दुश्मन -२
को:	दुश्मन 
र:	ज़माना ग़म नहीं, ग़म नहीं
	है अगर दुश्मन
को:	दुश्मन 
र:	ज़माना ग़म नहीं, ग़म नहीं
	कोई आये ए ए ए ए
	कोई आये कोई आये कोई आये कोई
	हम किसी से कम नहीं, कम नहीं

	है अगर दुश्मन
को:	दुश्मन 
र:	ज़माना ग़म नहीं, ग़म नहीं
को:	कोई आये कोई
	हम किसी से कम नहीं, कम नहीं
र:	है अगर दुश्मन
को:	दुश्मन 
	ज़माना ग़म नहीं, ग़म नहीं
	है अगर दुश्मन

र:	आऽ
	क्या करें दिल की जलन को, 
	इस मोहब्बत के चलन को
	जो भी हो जाये के अब तो सर पे बाँधा है क़फ़न को
	हम तो दीवाने दिलजले
	ज़ुल्म के साये में पले
	डाल कर आँखों को तेरे रुख़्सारों पे
	रोज़ ही चलते हैं हम तो अंगारों पे
	आऽ
	आज हम जैसे जिगर वाले कहाँ
को:	आ हा
र:	ज़ख़्म खाया है तब हुये हैं जवाँ
को:	आ हा
र:	तीर बन जाये दोस्तों की नज़र
को:	आ हा
र:	या बने ख़ंज़र दुश्मनों की ज़ुबाँ

	बैठे हैं तेरे दर पे तो कुछ कर के उठेंगे
	या तुझको ही ले जायेंगे या मर के उठेंगे

	आज हम जैसे जिगर वाले कहाँ
	ज़ख़्म खाया है तब हुये हैं जवाँ
	आऽ

	आज तो दुनिया
	आज तो दुनिया
को:	दुनिया
र:	नहीं या हम नहीं, हम नहीं
	कोई आये कोई
	हम किसी से कम नहीं, कम नहीं
को:	है अगर दुश्मन
	दुश्मन 
	ज़माना ग़म नहीं, ग़म नहीं
	है अगर दुश्मन, दुश्मन

र:	आऽ
आ:	आऽ

	हो लो ज़रा अपनी ख़बर भी
	इक नज़र देखो इधर भी
	हुस्न वाले ही नहीं हम
	दिल भी रखते हैं जिगर भी
	झूम के रखा जो क़दम
	रह गई ज़ंजीर-ए-सितम
	कैसे रुक जायेंगे हम किसी चिलमन से
	ज़ुल्फ़ों को बाँधा है यार के दामन से
	आ हा हा
	इश्क़ जब दुनिया का निशाना बना
को:	आ हा
आ:	हुस्न भी घबरा के दीवाना बना
को:	आ हा
आ:	मिल गये रंग-ए-हिना ख़ून-ए-जिगर
को:	आ हा
आ:	तब कहीं रंगीं ये फ़साना बना

	भेस मजनू का लिया मैंने जो लैला हो कर
	रंग लाया है दुपट्टा मेरा मैला हो कर

	इश्क़ जब दुनिया का निशाना बना
	हुस्न भी घबरा के दीवाना बना

	आ हा हा
	आ आ आ
	ये नहीं समझो
	ये नहीं समझो
को:	समझो
आ:	के हममें दम नहीं, दम नहीं
	कोई आये आ आ आ आ
	कोई आये कोई आये कोई आये कोई
	हम किसी से कम नहीं, कम नहीं

को:	है अगर दुश्मन
	दुश्मन 
	ज़माना ग़म नहीं, ग़म नहीं
	है अगर दुश्मन
	दुश्मन 



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

ra:	aa.a
	hai agar dushman -2
ko:	dushman 
ra:	zamaanaa Gam nahii.n, Gam nahii.n
	hai agar dushman
ko:	dushman 
ra:	zamaanaa Gam nahii.n, Gam nahii.n
	ko_ii aaye e e e e
	ko_ii aaye ko_ii aaye ko_ii aaye ko_ii
	ham kisii se kam nahii.n, kam nahii.n

	hai agar dushman
ko:	dushman 
ra:	zamaanaa Gam nahii.n, Gam nahii.n
ko:	ko_ii aaye ko_ii
	ham kisii se kam nahii.n, kam nahii.n
ra:	hai agar dushman
ko:	dushman 
	zamaanaa Gam nahii.n, Gam nahii.n
	hai agar dushman

ra:	aa.a
	kyaa kare.n dil kii jalan ko, 
	is mohabbat ke chalan ko
	jo bhii ho jaaye ke ab to sar pe baa.Ndhaa hai qafan ko
	ham to diiwaane dilajale
	zulm ke saaye me.n pale
	Daal kar aa.Nkho.n ko tere ruKsaaro.n pe
	roz hii chalate hai.n ham to a.ngaaro.n pe
	aa.a
	aaj ham jaise jigar waale kahaa.N
ko:	aa haa
ra:	zaKm khaayaa hai tab huye hai.n jawaa.N
ko:	aa haa
ra:	tiir ban jaaye dosto.n kii nazar
ko:	aa haa
ra:	yaa bane Ka.nzar dushmano.n kii zubaa.N

	baiThe hai.n tere dar pe to kuchh kar ke uThe.nge
	yaa tujhako hii le jaaye.nge yaa mar ke uThe.nge

	aaj ham jaise jigar waale kahaa.N
	zaKm khaayaa hai tab huye hai.n jawaa.N
	aa.a

	aaj to duniyaa
	aaj to duniyaa
ko:	duniyaa
ra:	nahii.n yaa ham nahii.n, ham nahii.n
	ko_ii aaye ko_ii
	ham kisii se kam nahii.n, kam nahii.n
ko:	hai agar dushman
	dushman 
	zamaanaa Gam nahii.n, Gam nahii.n
	hai agar dushman, dushman

ra:	aa.a
aa:	aa.a

	ho lo zaraa apanii Kabar bhii
	ik nazar dekho idhar bhii
	husn waale hii nahii.n ham
	dil bhii rakhate hai.n jigar bhii
	jhuum ke rakhaa jo qadam
	rah ga_ii za.njiir-e-sitam
	kaise ruk jaaye.nge ham kisii chilaman se
	zulfo.n ko baa.Ndhaa hai yaar ke daaman se
	aa haa haa
	ishq jab duniyaa kaa nishaanaa banaa
ko:	aa haa
aa:	husn bhii ghabaraa ke diiwaanaa banaa
ko:	aa haa
aa:	mil gaye ra.ng-e-hinaa Kuun-e-jigar
ko:	aa haa
aa:	tab kahii.n ra.ngii.n ye fasaanaa banaa

	bhes majanuu kaa liyaa mai.nne jo lailaa ho kar
	ra.ng laayaa hai dupaTTaa meraa mailaa ho kar

	ishq jab duniyaa kaa nishaanaa banaa
	husn bhii ghabaraa ke diiwaanaa banaa

	aa haa haa
	aa aa aa
	ye nahii.n samajho
	ye nahii.n samajho
ko:	samajho
aa:	ke hamame.n dam nahii.n, dam nahii.n
	ko_ii aaye aa aa aa aa
	ko_ii aaye ko_ii aaye ko_ii aaye ko_ii
	ham kisii se kam nahii.n, kam nahii.n

ko:	hai agar dushman
	dushman 
	zamaanaa Gam nahii.n, Gam nahii.n
	hai agar dushman
	dushman