गाना / Title: अपने रुख़ से ज़रा ... वाह तेरा क्या कहना - apane ruK se zaraa ... vaah teraa kyaa kahanaa

चित्रपट / Film: Waah Tera Kya Kehna

संगीतकार / Music Director: Jatin Lalit

गीतकार / Lyricist: समीर-(Sameer)

गायक / Singer(s): Roop Kumar Rathodकविता कृष्णमुर्ती-(Kavita Krishnamurthy)Chorus

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



अपने रुख से ज़रा पर्दा जो हटाया हमने
आ चाँद सा चेहरा जो महफ़िल को दिखाया हमने
किसी की आँख झुक गई
किसी की साँस रुक गई
कहीं चिलमन सरक गया
किसी का दिल धड़क गया
हम आ गए महफ़िल में आएगा अब मज़ा
आगे आगे देखिए होता है क्या

वाह तेरा क्या कहना
अरे वाह तेरा क्या कहना
वाह तेरा क्या कहना
वाह वाह तेरा क्या कहना

हम तो वो हैं जो नज़ारों का पता देते हैं
चाँद सूरज का सितारों का पता देते हैं
ज़िद पे आ जाएँ तो शोलों को बुझा देते हैं
हम तो पानी में भी इक आग लगा देते हैं
ऐसे आशिक़ को हम ऊँगली पे नचा देते हैं
सिर्फ़ कहते ही नहीं कर के दिखा देते हैं

आ तुमको इस तरह मिटाएँ के निशानी ना मिले
तुमको ऐसी जगह मारें जहाँ पानी ना मिले
हमको मासूम ना समझो कि हम चालाक भी हैं
जितने भोले हैं उतने ही ख़तरनाक भी हैं
अरे इब्तदा\-ए\-इश्क़ है रोता है क्या
आगे आगे देखिए होता है क्या
वाह तेरा क्या कहना ...

ऐसे वैसे कैसे कैसे हो गए
कैसे कैसे ऐसे वैसे हो गए
मिट गए हमको ज़माने से मिटाने वाले
बुझ गए शमा के मानिंद बुझाने वाले
खाक में मिल गए खुद खाक बनाने वाले
क़त्ल खुद हो गए तलवार दिखाने वाले
चमक सकते हैं ये जुगनूं उजाला कर नहीं सकते
उड़ा के खाक सूरज को ये अंधा कर नहीं सकते
कौन है 
जो खुद को राह\-ए\-वफ़ा में मिटा नहीं सकते
कभी वो मंज़िल\-ए\-मकसूद पा नहीं सकते
ये चार रोज़ की तलवार बाँधने वाले
कभी हमारे मुकाबिल में आ नहीं सकते
कभी भी आ नहीं सकते
हाँ जी हाँ आ नहीं सकते
आगोश में बेखबर सोता है क्या
आगे आगे देखिए होता है क्या

खुदा करे के हसीनों के बाप मर जाएँ
और हमारे वास्ते मैदान साफ़ कर जाएँ
वाह तेरा क्या कहना ...

ओ जान\-ए\-मन जान\-ए\-मन जान\-ए\-मन
जान\-ए\-मन देख आज़माई में
मोच आ जाएगी कलाई में
सामने आ जाओ जो दुल्हन बनके
जान दे देंगे मुँह दिखाई में

जो अच्छे हैं उनकी कहानी भी अच्छी
लड़कपन भी अच्छा जवानी भी अच्छी
तेरे तीर को क्यूँ ना दिल में जगह दें
निशाना भी अच्छा निशानी भी अच्छी

तुम अपनी चाहतों को एक हसीन मोड़ दो
लोगों पे तोहमतें तुम लगाना छोड़ दो
होता वही है जो मंज़ूर\-ए\-खुदा होता है
ताक़त का और गुरूर का अब शीशा तोड़ दो
ये शीशा तोड़ दो तुम ये शीशा तोड़ दो
अल्लाह मियां को सब पता है सोचा है क्या
आगे आगे देखिए होता है क्या



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

apane rukh se zaraa pardaa jo haTaayaa hamane
aa chaa.Nd saa cheharaa jo mahafil ko dikhaayaa hamane
kisii kii aa.Nkh jhuk ga_ii
kisii kii saa.Ns ruk ga_ii
kahii.n chilaman sarak gayaa
kisii kaa dil dha.Dak gayaa
ham aa ga_e mahafil me.n aa_egaa ab mazaa
aage aage dekhi_e hotaa hai kyaa

vaah teraa kyaa kahanaa
are vaah teraa kyaa kahanaa
vaah teraa kyaa kahanaa
vaah vaah teraa kyaa kahanaa

ham to vo hai.n jo nazaaro.n kaa pataa dete hai.n
chaa.Nd suuraj kaa sitaaro.n kaa pataa dete hai.n
zid pe aa jaa_e.N to sholo.n ko bujhaa dete hai.n
ham to paanii me.n bhii ik aag lagaa dete hai.n
aise aashiq ko ham uu.Ngalii pe nachaa dete hai.n
sirf kahate hii nahii.n kar ke dikhaa dete hai.n

aa tumako is tarah miTaa_e.N ke nishaanii naa mile
tumako aisii jagah maare.n jahaa.N paanii naa mile
hamako maasuum naa samajho ki ham chaalaak bhii hai.n
jitane bhole hai.n utane hii Kataranaak bhii hai.n
are ibtadaa\-e\-ishq hai rotaa hai kyaa
aage aage dekhi_e hotaa hai kyaa
vaah teraa kyaa kahanaa ...

aise vaise kaise kaise ho ga_e
kaise kaise aise vaise ho ga_e
miT ga_e hamako zamaane se miTaane vaale
bujh ga_e shamaa ke maani.nd bujhaane vaale
khaak me.n mil ga_e khud khaak banaane vaale
qatl khud ho ga_e talavaar dikhaane vaale
chamak sakate hai.n ye juganuu.n ujaalaa kar nahii.n sakate
u.Daa ke khaak suuraj ko ye a.ndhaa kar nahii.n sakate
kaun hai 
jo khud ko raah\-e\-vafaa me.n miTaa nahii.n sakate
kabhii vo ma.nzil\-e\-makasuud paa nahii.n sakate
ye chaar roz kii talavaar baa.Ndhane vaale
kabhii hamaare mukaabil me.n aa nahii.n sakate
kabhii bhii aa nahii.n sakate
haa.N jii haa.N aa nahii.n sakate
aagosh me.n bekhabar sotaa hai kyaa
aage aage dekhi_e hotaa hai kyaa

khudaa kare ke hasiino.n ke baap mar jaa_e.N
aur hamaare vaaste maidaan saaf kar jaa_e.N
vaah teraa kyaa kahanaa ...

o jaan\-e\-man jaan\-e\-man jaan\-e\-man
jaan\-e\-man dekh aazamaa_ii me.n
moch aa jaa_egii kalaa_ii me.n
saamane aa jaa_o jo dulhan banake
jaan de de.nge mu.Nh dikhaa_ii me.n

jo achchhe hai.n unakii kahaanii bhii achchhii
la.Dakapan bhii achchhaa javaanii bhii achchhii
tere tiir ko kyuu.N naa dil me.n jagah de.n
nishaanaa bhii achchhaa nishaanii bhii achchhii

tum apanii chaahato.n ko ek hasiin mo.D do
logo.n pe tohamate.n tum lagaanaa chho.D do
hotaa vahii hai jo ma.nzuur\-e\-khudaa hotaa hai
taaqat kaa aur guruur kaa ab shiishaa to.D do
ye shiishaa to.D do tum ye shiishaa to.D do
allaah miyaa.n ko sab pataa hai sochaa hai kyaa
aage aage dekhi_e hotaa hai kyaa