गाना / Title: अब क्या मिसाल दूँ मैं तुम्हारे शबाब की - ab kyaa misaal duu.N mai.n tumhaare shabaab kii

चित्रपट / Film: Aarti

संगीतकार / Music Director: Roshan

गीतकार / Lyricist: मजरूह सुलतान पुरी-(Majrooh)

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



अब क्या मिसाल दूँ मैं तुम्हारे शबाब की
इनसान बन गई है किरण माहताब की
अब क्या मिसाल दूँ   ...

चेहरे में घुल गया है हसीं चाँदनी का नूर
आँखों में है चमन की जवाँ रात का सुरूर
गरदन है एक झुकी हुई डाली गुलाब की
अब क्या मिसाल दूँ   ...

गेसू खुले तो शाम के दिल से धुआँ उठे
छूले कदम तो झुक के न फिर आस्माँ उठे
सौ बार झिलमिलाये शमा आफ़ताब की
अब क्या मिसाल दूँ   ...

दीवार-ओ-दर का रंग, ये आँचल, ये पैरहन
घर का मेरे चिराग़ है बूटा स ये बदन
तसवीर हो तुम्हीं मेरे जन्नत के ख़्वाब की
अब क्या मिसाल दूँ   ...




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

ab kyaa misaal duu.N mai.n tumhaare shabaab kii
inasaan ban ga_ii hai kiraN maahataab kii
ab kyaa misaal duu.N   ...

chehare me.n ghul gayaa hai hasii.n chaa.Ndanii kaa nuur
aa.Nkho.n me.n hai chaman kii javaa.N raat kaa suruur
garadan hai ek jhukii huii Daalii gulaab kii
ab kyaa misaal duu.N   ...

gesuu khule to shaam ke dil se dhuaa.N uThe
chhuule kadam to jhuk ke na phir aasmaa.N uThe
sau baar jhilamilaaye shamaa aafataab kii
ab kyaa misaal duu.N   ...

diivaar-o-dar kaa ra.ng, ye aa.Nchal, ye pairahan
ghar kaa mere chiraaG hai buuTaa sa ye badan
tasaviir ho tumhii.n mere jannat ke Kvaab kii
ab kyaa misaal duu.N   ...