गाना / Title: परी हो आसमानी तुम मगर तुम को तो पाना है - parii ho aasamaanii tum magar tum ko to paanaa hai

चित्रपट / Film: Zamane Ko Dikhana Hai

संगीतकार / Music Director: राहुलदेव बर्मन-(R D Burman)

गीतकार / Lyricist: मजरूह सुलतान पुरी-(Majrooh)

गायक / Singer(s): Shailendra Singhआशा भोसले-(Asha)Rishi

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          

 

ऋषि: गफ़ातीन और हज़रात 
आज की शाम इस महफ़िल में आपके पसंदीदा क़व्वाल 
चुलबुले असरानी साहब को बुलाया गया था मगर 
अचानक तबीयत खराब होजाने की वजह से वो चुलबुले 
गुलबुले से गुलगुले होकर बुलबुले हो चुके हैं 
इसलिये यहाँ नहीं आ सके.  उनके ना आने की मैं 
ज़नाब कर्नल टिप्सी से मुआफ़ी चाहता हूँ इस 
गुज़ारिश के साथ कि उनकी ये हसीन महफ़िल साज़ और 
आवाज़ के जादू से महरूम नहीं रहेगी. अगर मेरे 
सीने में दिल है और उस दिल में तड़प और उसका असर 
तड़प लाज़मी है अपने आवाज़ से सब दिलों को जीतने 
का वायदा तो नहीं कर सकता पर हुज़ूर अगर ये 
नाचीज़ अगर एक रात में एक दिल भी जीत सका तो मेरी 
क़िस्मत चमक उठेगी. 

शैलेन्द्र: हां ...
क्या इश्क़ ने समझा है क्या हुस्न ने ज़ाना है 
हम ख़ाक हसीनो की ठोकर में ज़माना है 
(परी हो आसमानी तुम मगर तुम को तो पाना है) - ५ 
मुहब्बत कैसे करते हैं हां मुहब्बत कैसे करते हैं 
ज़माने को दिखाना है ज़माने को दिखाना है 
को: ज़माने को दिखाना है ज़माने को दिखाना है 

हां मोहब्बत कैसे करते हैं 
को: कैसे करते हैं मोहब्बत 
हां हां मोहब्बत कैसे करते हैं 
को: कैसे करते हैं मोहब्बत 
कैसे करते हैं मोहब्बत दिखाना है 
को: दिखाना है 
दिखाना है ज़माने को दिखाना है ज़माने को दिखाना है 
को: ज़माने को दिखाना है ज़माने को दिखाना है 
परी हो आसमानी तुम मगर तुम को तो पाना है 

आ: हुस्न कहा तू कौन है 
मैंने कहा शैदा तेरा
हुस्न कहा तकता है क्या 
मैंने कहा सूरत तेरी 
आ उसने कहा क्या चाहिये 
मैंने कहा उल्फ़त तेरी 
उसने कहा मुमकिन नही 
मैंने कहा यूं ही सही 
को: उसने कहा मुमकिन नही मैंने कहा यूं ही सही 
हो मेरी तमन्ना दिलबर ज़ाना खेल नहीं 
को: इश्क़ है
साये में तल्वार के आना खेल नहीं है
को: इश्क़ है
यूं होश गाँवाना
को: इश्क़ है
ये हाल बनाना 
ख़ो: इश्क़ है 
इस दर तक आना 
को: इश्क़ है
आवाज़ लगाना
को: इश्क़ है 
यूं होश गंवाना ये हाल बनाना इस दर तक आना सदा लगाना
को: इश्क़ है
इश्क़ है 

इश्क़ वो नग़मा सुन के जिसे अरे इश्क़ वो नगमा सुन के जिसे 
महलों के परदे जलते हैं 
को: महलों के परदे जलते हैं 
इश्क़ वो नग़मा सुन के जिसे सुन के जिसे वो नग़मा
सुन के जिसे महलों के परदे जलते हैं 
जलते हैं जलते हैं जलते हैं जलते हैं 
तुम चले आओगे एजी तुम तो चले आओगे 
ऐसे आग पे जैसे चलते हैं 
को: आग पे जैसे चलते हैं 
(हां करो ना मेहरबानी तुम मगर तुम को तो पाना है) - २ 
(मोहब्बत कैसे करते हैं ) - २ 
ज़माने को दिखाना है ज़माने को दिखाना है 
को: ज़माने को दिखाना है ज़माने को दिखाना है 

लाया था मैं दावे ज़िगर तुमने तो देखा भी नहीं 
आया था मैं किस प्यार से तुमने तो पूछा भी नहीं 
ल ल ... hummming of puchho naa yaar kyaa hua 
पत्थर लगा जब क़ैस को मशहूर-ए-आलम हो गया 
को: पत्थर लगा जब क़ैस को मशहूर-ए-आलम हो गया 
ज़ख्मी हुआ फ़रहाद तो दुनिया में मातम हो गया 
को: ज़ख्मी हुआ परहाद तो दुनिया में मातम हो गया 
हो मेरा ज़ख्म कोई क्या ज़ाने जो सीने के नीचे है 
मुझपे तीर चलाने वाला परदे के पीछे है 
वो परदा नशीं है 
को: परदे में 
वो ज़ोहरा ज़बीं है 
को: परदे में 
वो सबसे हसीं है 
को: परदे में 
वो आज यहीं है 
को: परदे में 
वो परदा नशीं वो ज़ोहरा ज़बीं वो सबसे हसीं वो आज यहीं है 
को: परदे में

अब दिखलाये जो भी नजर अब दिखलाये जो भी नजर 
वो आज दीवाना देखेगा 
को: वो आज दीवाना देखेगा 
अब दिखलाये जो भी नजर जी भी नजर दिखलाये 
जो भी नजर दिखलाये दीवाना आज देखेगा 
देखेगा देखेगा देखेगा देखेगा 
फिर जब मेरी शाम सजेगी फिर जब मेरी शाम सजेगी 
सारा ज़माना देखेगा सारा ज़माना देखेगा 
को: सारा ज़माना देखेगा 
छुपो ऐ यार ज़ानी तुम मगर तुम को तो पाना है - २ 
(मोहब्बत कैसे करते हैं ) - २ 
ज़माने को दिखाना है ज़माने को दिखाना है 
को: ज़माने को दिखाना है ज़माने को दिखाना है 
परी हो आसमानी तुम मगर तुम को तो पना है
को: (पाना है तुम को पाना है) - ४
आशा: परी हो आसमानी तुम मगर तुम को तो पाना है... 
महज़बीं है 
को: आहा
नाज़नीं है
को: आहा
ऐ हसीं
को: नाज़नीं
आहा
को: महज़बीं
महज़बीं नाज़नीं ऐ हसीं तुम को तो पाना है
तुम को तो पाना है - ४
मोहब्बत कैसे करते हैं - २ 
ज़माने को दिखाना है ज़माने को दिखाना है 
को: ज़माने को दिखाना है ज़माने को दिखाना है 



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
       

R^ishhi: gafaatiin aur hazaraat 
aaj kii shaam is mahafil me.n Apake pasa.ndIdaa qavvaal 
chulabule asaraanii saahab ko bulaayaa gayaa thaa magar 
achaanak tabIyat kharaab hojaane kI vajah se vo chulabule 
gulabule se gulagule hokar bulabule ho chuke hai.n 
isaliye yahaa.N nahii.n aa sake.  unake nA aane kii mai.n 
zanaab karnal Tipsii se muaafii chaahataa huu.N is 
guzaarish ke saath ki unakii ye hasiin mahafil saaz aur 
aavaaz ke jaaduu se maharuum nahii.n rahegii. agar mere 
sIne me.n dil hai aur us dil me.n ta.Dap aur usakA asar 
ta.Dap laazamii hai apane aavaaz se sab dilo.n ko jItane 
kaa vAyadaa to nahii.n kar sakataa par huzUr agar ye 
naachiiz agar ek raat me.n ek dil bhii jiit sakaa to merii 
qismat chamak uThegii. 

shailendra: haa.n ...
kyaa ishq ne samajhaa hai kyaa husn ne zaanaa hai 
ham Kaak hasiino kii Thokar me.n zamaanaa hai 
(parii ho aasamaanii tum magar tum ko to paanaa hai) - 5 
muhabbat kaise karate hai.n haa.n muhabbat kaise karate hai.n 
zamaane ko dikhaanaa hai zamaane ko dikhaanaa hai 
ko: zamaane ko dikhaanaa hai zamaane ko dikhaanaa hai 

haa.n mohabbat kaise karate hai.n 
ko: kaise karate hai.n mohabbat 
haa.n haa.n mohabbat kaise karate hai.n 
ko: kaise karate hai.n mohabbat 
kaise karate hai.n mohabbat dikhaanaa hai 
ko: dikhaanaa hai 
dikhaanaa hai zamaane ko dikhaanaa hai zamaane ko dikhaanaa hai 
ko: zamaane ko dikhaanaa hai zamaane ko dikhaanaa hai 
parii ho aasamaanii tum magar tum ko to paanaa hai 

aa: husn kahaa tuu kaun hai 
mai.nne kahaa shaidaa teraa
husn kahaa takataa hai kyaa 
mai.nne kahaa sUrat terii 
aa usane kahaa kyaa chaahiye 
mai.nne kahaa ulfat terii 
usane kahaa mumakin nahii 
mai.nne kahaa yuu.n hii sahii 
ko: usane kahaa mumakin nahii mai.nne kahaa yuu.n hii sahii 
ho merii tamannaa dilabar zaanaa khel nahii.n 
ko: ishq hai
saaye me.n talvaar ke aanaa khel nahii.n hai
ko: ishq hai
yuu.n hosh gaa.Nvaanaa
ko: ishq hai
ye haal banaanA 
Ko: ishq hai 
is dar tak aanaa 
ko: ishq hai
aavaaz lagaanaa
ko: ishq hai 
yuu.n hosh ga.nvaanaa ye haal banaanA is dar tak aanaa sadaa lagaanaa
ko: ishq hai
ishq hai 

ishq vo naGamA sun ke jise are ishq vo nagamA sun ke jise 
mahalo.n ke parade jalate hai.n 
ko: mahalo.n ke parade jalate hai.n 
ishq vo naGamaa sun ke jise sun ke jise vo naGamaa
sun ke jise mahalo.n ke parade jalate hai.n 
jalate hai.n jalate hai.n jalate hai.n jalate hai.n 
tum chale aaoge ejii tum to chale aaoge 
aise aag pe jaise chalate hai.n 
ko: aag pe jaise chalate hai.n 
(haa.n karo naa meharabaanii tum magar tum ko to paanaa hai) - 2 
(mohabbat kaise karate hai.n ) - 2 
zamaane ko dikhaanaa hai zamaane ko dikhaanaa hai 
ko: zamaane ko dikhaanaa hai zamaane ko dikhaanaa hai 

laayaa thaa mai.n daave zigar tumane to dekhaa bhii nahii.n 
aayaa thaa mai.n kis pyaar se tumane to pUchhaa bhii nahii.n 
la la ... ## hummming of puchho naa yaar kyaa hua ##
patthar lagaa jab qais ko mashahuur-e-aalam ho gayaa 
ko: patthar lagaa jab qais ko mashahuur-e-aalam ho gayaa 
zakhmii huaa farahaad to duniyaa me.n maatam ho gayaa 
ko: zakhmii huaa parahaad to duniyaa me.n maatam ho gayaa 
ho meraa zakhm koii kyaa zaane jo siine ke niiche hai 
mujhape tiir chalaane vaalaa parade ke pIchhe hai 
vo paradaa nashii.n hai 
ko: parade me.n 
vo zoharaa zabii.n hai 
ko: parade me.n 
vo sabase hasii.n hai 
ko: parade me.n 
vo aaj yahii.n hai 
ko: parade me.n 
vo paradaa nashii.n vo zoharaa zabii.n vo sabase hasii.n vo aaj yahii.n hai 
ko: parade me.n

ab dikhalaaye jo bhii najar ab dikhalaaye jo bhii najar 
vo aaj dIvaanaa dekhegaa 
ko: vo aaj dIvaanaa dekhegaa 
ab dikhalaaye jo bhii najar jii bhii najar dikhalaaye 
jo bhii najar dikhalaaye dIvaanaa aaj dekhegaa 
dekhegaa dekhegaa dekhegaa dekhegaa 
phir jab merii shaam sajegii phir jab merii shaam sajegii 
saaraa zamaanaa dekhegaa saaraa zamaanaa dekhegaa 
ko: saaraa zamaanaa dekhegaa 
chhupo ai yaar zaanii tum magar tum ko to paanaa hai - 2 
(mohabbat kaise karate hai.n ) - 2 
zamaane ko dikhaanaa hai zamaane ko dikhaanaa hai 
ko: zamaane ko dikhaanaa hai zamaane ko dikhaanaa hai 
parii ho aasamaanii tum magar tum ko to panaa hai
ko: (paanaa hai tum ko paanaa hai) - 4
aashaa: parii ho aasamaanii tum magar tum ko to paanaa hai... 
mahazabii.n hai 
ko: aahaa
naazanii.n hai
ko: aahaa
ai hasii.n
ko: naazanii.n
aahaa
ko: mahazabii.n
mahazabii.n naazanii.n ai hasii.n tum ko to paanaa hai
tum ko to paanaa hai - 4
mohabbat kaise karate hai.n - 2 
zamaane ko dikhaanaa hai zamaane ko dikhaanaa hai 
ko: zamaane ko dikhaanaa hai zamaane ko dikhaanaa hai